छत्तीसगढ़ में नक्सलियों की क्रूरता, मुखबिरी के शक में तीन आदिवासियों को दी मौत की सजा

छत्तीसगढ़ के बीजापुर जिले में नक्सलियों ने जनअदालत लगाकर ग्रामीणों को मौत के घाट उतारा, मृतकों में एक महिला भी शामिल, स्थानीय लोगों के मुताबिक मृतक भी पहले नक्सली थे

Updated: Jan 07, 2022, 02:48 PM IST

छत्तीसगढ़ में नक्सलियों की क्रूरता, मुखबिरी के शक में तीन आदिवासियों को दी मौत की सजा

बीजापुर। छत्तीसगढ़ में नक्सल विरोधी तमाम अभियानों के बावजूद लाल आतंक का खात्मा नहीं हो पा रहा है। सरकार की सख्ती के बाद अब नक्सली हमले भी तेज होने लगे हैं। नक्सलियों ने अब मुखबिरी के शक में ग्रामीणों को भी निशाना बनाना शुरू कर दिया है। बीजापुर में नक्सलियों ने एक जन अदालत लगाकर तीन ग्रामीणों की हत्या कर दी है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक बीजापुर जिले के गंगालूर थाना क्षेत्र अंतर्गत इडिनार ग्राम स्थित जंगल में यह घटना हुई है। यहां माओवादियों ने जन अदालत लगाया और तीन आदिवासियों की निर्मम हत्या कर दी। मिली जानकारी के मुताबिक जिनकी हत्या की गई है, उनमें दो युवक और एक महिला शामिल हैं। नक्सलियों ने इन पर पुलिस से मुखबिरी करने का आरोप लगाया था। 

यह भी पढ़ें: छत्तीसगढ़ सीएम भूपेश बघेल ने उठाए सवाल, SPG और खुफिया विभाग के खिलाफ कार्रवाई का मांगा हिसाब

बीजापुर एसपी कमलोचन कश्यप ने बताया कि इस घटना के बाद से ग्रामीणों में दहशत का माहौल है। फिलहाल मामले की जानकारी जुटाई जा रही है। जांच के बाद ही कुछ कहा जा सकता है। घटना वाले क्षेत्र में पुलिस की तैनाती कर दी गई है और शवों को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम का आदेश दिया गया है।

इस घटना को लेकर यह भी दावा किया जा रहा है कि नक्सलियों ने जिन लोगों की हत्या की वे आम ग्रामीण नहीं बल्कि उनके ही साथी थे। लेकिन हाल के दिनों में उन्होंने नक्सल गतिविधियों से खुद को अलग कर रखा था। ऐसे में नक्सलियों को शक हुआ कि वे पुलिस का मुखबिर बन गए थे। इसीलिए जन अदालत में तीनों को बुलाया गया और ग्रामीणों के सामने उनकी निर्मम हत्या कर दी गई।