मां पर लगा बेटे के धर्मांतरण का आरोप, हिंदू पिता के FIR पर मुस्लिम मां की हुई गिरफ्तारी

मां ने मुस्लिम रीति-रिवाज से किया बेटे का सुन्नत (खतना), पिता ने लगाया धर्म परिवर्तन का आरोप, जिस मां ने बच्चे को जन्म दिया उसी को पुलिस ने किया गिरफ्तार

Updated: Jan 13, 2022, 02:58 PM IST

मां पर लगा बेटे के धर्मांतरण का आरोप, हिंदू पिता के FIR पर मुस्लिम मां की हुई गिरफ्तारी

जशपुर। छत्तीसगढ़ के जशपुर में एक अजीबोगरीब मामला सामने आया है। यहां एक मां पर ही अपने बच्चे का धर्मांतरण करने का आरोप लगाया है। जिस मां ने 9 महीने पेट में रखकर बेटे को जन्म दिया उसे ही धर्म परिवर्तन के आरोप में पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। दरअसल, बच्चे का पिता हिंदू है जबकि मां मुसलमान है।

जानकारी के मुताबिक जशपुर जिले के सन्ना थाना अंतर्गत ग्राम नगरटोली निवासी एक हिंदू युवक ने 10 वर्ष पहले एक मुस्लिम युवती से शादी की थी। युवक का दावा है कि उसकी शादी हिंदू रीति-रिवाजों से हुई थी। उन्हें एक आठ साल का बेटा है और एक 6 साल की बेटी है। मामला यह है कि मां उन्हें मुस्लिम पहचान देना चाहती है और पिता उन्हें हिंदू धर्म का अनुयायी बनाना चाहता है।

यह भी पढ़ें: PIB ने स्वामी विवेकानंद को लेकर बताया भ्रामक इतिहास, लोगों की आपत्ति के बाद मांगी माफी

रिपोर्ट्स के मुताबिक पिछले साल महिला अपने बेटे को लेकर मायके गई थी। यहां उसने अपने मां-बाप की मदद से बेटे का सुन्नत (खतना) करवा दिया। इस बात की जानकारी पिता को नहीं दी गई। दो महीने बाद जब पिता को यह पता चला तो वह थाने पहुंच गया। युवक ने अपनी पत्नी और सास-ससुर के खिलाफ बेटे का धर्म परिवर्तन कराने का आरोप लगाया।

सन्ना पुलिस ने मामले में छत्तीसगढ़ धर्म स्वातंत्रता अधिनियम के तहत मामला दर्ज कर बच्चे की मां और उसकी नानी को गिरफ्तार कर लिया है। उधर, हिंदूवादी संगठनों ने बच्चे के पिता का समर्थन करते हुए थाने के बाहर जमकर हंगामा किया है। पुलिस ने लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की है, हालांकि इलाके में तनाव का माहौल है और कुछ असामाजिक तत्वों द्वारा सामाजिक सौहार्द बिगाड़े जाने की भी आशंका है।

यह भी पढ़ें: उन्नाव रेप पीड़िता की मां को कांग्रेस ने बनाया उम्मीदवार, 125 उम्मीदवारों की सूची जारी

बीजेपी की ओर से भी मामले में बयानबाजी शुरू हो गई है। भाजपा नेता प्रबल प्रताप सिंह जूदेव ने कहा है कि पिता की सहमति के बगैर बेटे का खतना कराना सहन करने योग्य नहीं है। इस मामले में लिप्त सभी कुकर्मियों को गिरफ्तार कर धर्मांतरण पर अंकुश लगाने की जरूरत है। बताया जा रहा है कि राष्ट्रीय बाल अधिकार आयोग ने भी मामले को संज्ञान में लिया है।