थाइलैंड में लीगल हुआ गांजा, अब खेती के लिए ख़ुद प्रोत्साहित करेगी सरकार

थाइलैंड में अब गांजा रखना और उसकी खेती करना अपराध की श्रेणी में नहीं आएगा, गुरुवार को सरकार ने इसे वैध करार दिया, ऐसा करने वाला थाइलैंड एशिया का पहला देश बन गया है, सरकार के इस फैसले से झूम उठे लोग

Updated: Jun 10, 2022, 01:18 PM IST

थाइलैंड में लीगल हुआ गांजा, अब खेती के लिए ख़ुद प्रोत्साहित करेगी सरकार
Photo Courtesy: Indiatoday

बैंकॉक। थाइलैंड में अब गांजा रखना और उसकी खेती करना अपराध की श्रेणी में नहीं आएगा। गुरुवार को सरकार ने इसे वैध कर दिया है। ऐसा करने वाला थाइलैंड एशिया का पहला देश बन गया है। सरकार के इस फैसले से लोगों में जश्न का माहौल है। दुनियाभर में अभी तक उरुग्वे और कनाडा दो ही ऐसे देश थे जहां गांजा का सेवन करना अपराध नहीं था। थाइलैंड अब तीसरा ऐसा देश बन गया है।

थाईलैंड के स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री अनूतिन चार्नविराकूल ने इस फैसले का ऐलान करते हुए कहा क‍ि सरकार की योजना पूरे देश में गांजा के 10 लाख बीजों को वितरित करने की है। यानी लोगों को गांजे की खेती के लिए प्रोत्साहित करने के लिए सरकार अब बीज बांटेगी। स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री ने कहा कि वे थाईलैंड को एक 'वीड वंडरलैंड' के रूप में विकसित करना चाहते हैं। 

यह भी पढ़ें: राज्यसभा की 16 सीटों के लिए वोटिंग जारी, हरियाणा और राजस्थान में क्रॉस वोटिंग का डर

अब नए नियम के तहत थाईलैंड के लोगों को मेडिकल आधार पर गांजा पैदा करने, खाने और बेचने की अनुमति दी गई है। गांजा का समर्थन करने वालों का कहना है कि इस कदम से यह प्रॉडक्‍ट अपराध नहीं रह जाएगा। थाईलैंड की सरकार को उम्‍मीद है कि गांजा की फसल से उसे जमकर कमाई होगी और अर्थव्‍यवस्‍था कोरोना की मार से आई मंदी से निकल सकेगी। 

थाईलैंड में कुछ लोगों ने गांजा पीने को मंजूरी मिलने पर जमकर जश्‍न मनाया। उन्‍होंने कैफे जाकर मारिजुआना खरीदा जिसे गांजे के पौधे के उन हिस्‍सों से बनाया जाता है जिसमें नशा की क्षमता कम होती है। ये लोग बैंकाक के हाइलैंड कैफे पहुंचे जहां उन्‍होंने सूगरकेन, बबलगम, पर्पल अफगानी और यूएफओ के नाम से गांजे से बनी चीजों को खरीदा। गांजा खरीदने के लिए सबसे पहले पहुंचे रिटीपोंग बाचकूल ने कहा, 'मैं अब चिल्‍लाकर कह सकता हूं कि मैं एक गांजा पीने वाला हूं। मुझे यह छिपाने की जरूरत नहीं है क्‍योंकि इससे पहले इसे अवैध ड्रग्‍स की श्रेणी में रखा जाता था।'

हालांकि, थाइलैंड सरकार ने स्पष्ट किया है कि वह केवल चिकित्सा में उपयोग के लिए गांजा को बढ़ावा दे रही है। सार्वजनिक जगहों पर गांजा पीना अभी भी उपद्रव की श्रेणी में आएगा। थाईलैंड ने मारिजुआना यानि भांग या गांजा को उरुग्वे और कनाडा की तरह पूरी तरह से वैध नहीं किया है, जहां मनोरंजन के के लिए गांजा को राष्ट्रीय स्तर पर वैध बनाया गया है। थाइलैंड में गांजे की खेती के लिए सरकार से अनुमति प्राप्त करना होगा। बहरहाल, लीगल होने के बाद थाईलैंड के बाजार में गांजा धूम मचाने के लिए तैयार है। माना जाता है कि थाईलैंड का वातावरण गांजा उगाने के लिए उपयुक्त है।