MPCA का एक और घोटाला, सिंधिया के करीबी से 17 लाख की जमीन 7 करोड़ में खरीदी

चंबल डिविजन क्रिकेट एसोसिएशन के सेक्रेटरी ने 17 लाख रुपए में खरीदी थी जमीन, उसे ही उन्होंने एमपीसीए को 7 करोड़ में बेच दिया, आरोपी सेक्रेटरी केंद्रीय मंत्री सिंधिया का करीबी है

Updated: Oct 15, 2022, 07:25 PM IST

MPCA का एक और घोटाला, सिंधिया के करीबी से 17 लाख की जमीन 7 करोड़ में खरीदी

मुरैना। मध्य प्रदेश क्रिकेट एसोसिएशन (MPCA) आर्थिक अनिमितताओं को लेकर विवादों में है। इंदौर में टिकट स्कैम के बाद अब एमपीसीए का एक और घोटाला सामने आया है। मामला मुरैना में स्टेडियम के लिए जमीन खरीदी का है। यहां एसोसिएशन द्वारा केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के करीबी व्यक्ति से 17 लाख की जमीन 7 करोड़ रुपए में खरीदी गई है।

दरअसल, चंबल डिविजन क्रिकेट एसोसिएशन के सचिव तस्लीम खां ने अपनी पत्नी के नाम 17 लाख रुपए में जमीन खरीदी थी। बाद में उन्होंने वह जमीन मध्य प्रदेश क्रिकेट एसोसिएशन को 7 करोड़ रुपए में बेच दिया। मुरैना जिले के पूर्व क्रिकेटर सुरेश उपाध्याय ने बताया कि स्टेडियम के लिए जो जगह खरीदी उसकी प्राइम लोकेशन पर उन्होंने 4.95 लाख में खुद लगभग 6 बीघा जमीन खरीदी, जबकि मध्य प्रदेश क्रिकेट एसोसिएशन को उसी लोकेशन पर 45 लाख रुपए बीघा में जमीन मिली है।

यह भी पढ़ें: इंदौर में छात्रवृति की मांग कर रहे युकां कार्यकर्ताओं पर लाठीचार्ज, डॉ भूरिया ने दी प्रदेशभर में आंदोलन की चेतावनी

उपाध्याय ने कहा कि, 'इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि क्रिकेट के लिए आने वाली राशि में कितना बड़ा भ्रष्टाचार हुआ है।' उन्होंने आरोप लगाया कि चंबल क्रिकेट एसोसिएशन के सेक्रेटरी तस्लीम खां स्वयं के लाभ के लिए भू माफियाओं से सांठगांठ कर मध्य प्रदेश क्रिकेट एसोसिएशन को जानबूझकर लाखों रुपए की जमीन करोड़ों रुपए में बिकवाई है। स्थानीय लोगों ने बताया कि तस्लीम खां केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के बेहद करीबी हैं, और महल में उनका आना-जाना लगा रहता है। 

वहीं मामला सामने आने के बाद कांग्रेस ने सिंधिया को इस घोटाले का मास्टर माइंड करार दिया है। एमपी युवा कांग्रेस मीडिया विभाग के अध्यक्ष विवेक त्रिपाठी ने कहा कि, 'सिंधिया महाराज नहीं है, बल्की भूमाफिया और दलाल हैं। ग्वालियर-चंबल बेल्ट में उन्होंने करोड़ों का जमीन कब्जाया है। अब वे एमपीसीए से भी जमीन की दलाली करवा रहे हैं। उनके खिलाफ कई पुराने मामले भी लंबित हैं, लेकिन बीजेपी से सांठगांठ के कारण वह बचे हुए हैं। कांग्रेस सरकार आने के बाद भू माफियाओं और दलालों के खिलाफ निश्चित रूप से कार्रवाई होगी।'