ठंडी चाय मिलने पर भड़के सीएम शिवराज, फूड इंस्पेक्टर को भेजा गया कारण बताओ नोटिस

सीएम शिवराज सिंह चौहान को ठंडी चाय परोसना एक अधिकारी को भारी पड़ गए, मामले में फूड इंस्पेक्टर को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है, कांग्रेस बोली- जनता को भले राशन तक ना मिले , पीड़ित को एम्बुलेंस ना मिले लेकिन मुखिया को चाय ठंडी नही मिलना चाहिये

Updated: Jul 12, 2022, 04:19 PM IST

ठंडी चाय मिलने पर भड़के सीएम शिवराज, फूड इंस्पेक्टर को भेजा गया कारण बताओ नोटिस
Representative Image

भोपाल। मध्य प्रदेश में निकाय चुनाव के दूसरे चरण का प्रचार थम चुका है। सोमवार को प्रचार के आखिरी दिन दोनों दलों ने अपनी पूरी ताकत झोंक दी। लोकतंत्र के इस पर्व के चलते चुनावी क्षेत्रों की जनता को वर्षों बाद अपने नेताओं का दीदार हुआ और कई लुभावने वादे भी सुनने को मिले। इस पूरे चुनाव प्रचार के दौरान नेताओं के कई स्वरूप देखने को मिले। कोई अपनी अमर्यादित भाषा से सुर्खियां बटोरता रहा तो कोई लोगों को पैसे बांटते नजर आए। प्रचार अभियान के दौरान प्रदेश के मुखिया शिवराज सिंह चौहान को ठंडा चाय मिलने का भी मामला सामने आया जिसमें एक अधिकारी को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है।

जानकारी के मुताबिक मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सोमवार को जब बीजेपी का प्रचार करने रीवा जा रहे थे, उस दौरान वो छतरपुर जिले के खजुराहो एयरपोर्ट पर कुछ देर के लिए रुके। एयरपोर्ट पर उन्होंने मानसिक तनाव दूर करने के लिए चाय मंगाई। लेकिन उन्हें जो चाय पिलाई गई वह बेस्वाद और ठंडी थी। सीएम हाउस का स्पेशल चाय के आदि सीएम चौहान एयरपोर्ट का चाय पीकर भड़क गए।

यह भी पढ़ें: MP में मीडिया पर सेंसर, कमलनाथ को न सुन पाएं लोग इसलिए बंद करा दिए गए केबल चैनल

फिर क्या था चाय ठंडी होने के लिए फूड इंस्पेक्टर को जिम्मेदार माना गया। इतना ही नहीं अफसर राकेश कन्हवा को कारण बताओ नोटिस जारी कर दिया गया। यह नोटिस नोटिस राजनगर एसडीएम डीपी द्विवेदी ने जारी किया है. नोटिस में कहा गया है कि 11 तारीख को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ट्रांजिट विजिट के लिए खजुराहो आए थे, जिनके नाश्ते की व्यवस्था आपको देखनी थी इस दौरान उन्हें जो चाय पिलाई गई उसका मानक स्तर ठीक नहीं था साथ ही वह ठंडी थी 2 से 3 दिनों के अंदर आपको यह जवाब देना है कि आखिर ऐसा क्यों हुआ।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को ठंडी चाय पिलाने के मामले को लेकर जारी किया गया नोटिस सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है। विपक्षी दल कांग्रेस ने भी इस मामले में तीखी प्रतिक्रिया दी है। कांग्रेस नेता नरेंद्र सलूजा ने कहा कि, 'जनता को भले राशन तक ना मिले, पीड़ित को एम्बुलेंस ना मिले लेकिन मुखिया को चाय ठंडी नही मिलना चाहिये…? मामाजी चाय वाले से इतनी नफ़रत क्यों….? नफ़रत किससे, निपट कौन रहा है।