सिंधिया समर्थकों के साथ गाने पर थिरके सीएम, ये दोस्ती हम नहीं तोड़ेंगे

सोमवार को सीएम ने अपने आवास पर सभी विधायकों को डिनर पर आमंत्रित किया, इस दौरान सिंधिया समर्थक पंचायत मंत्री महेंद्र सिंह सिसोदिया ने फिल्म शोले का गाना गुनगुनाना शुरू किया, साथ में अन्य सिंधिया समर्थक मंत्री भी मौजूद रहे, सीएम शिवराज भी गाने पर सुर में सुर मिलाने से खुद को रोक नहीं सके

Publish: Dec 21, 2021, 10:26 AM IST

सिंधिया समर्थकों के साथ गाने पर थिरके सीएम, ये दोस्ती हम नहीं तोड़ेंगे
Photo Courtesy: Dainik Bhaskar

भोपाल। सिंधिया समर्थक मंत्रियों और सीएम शिवराज के बीच गाने की जुगलबंदी की खूब चर्चा हो रही है। सोमवार को अपने आवास पर सीएम शिवराज सिंधिया समर्थक मंत्रियों के साथ फिल्म शोले के गाने को गुनगुनाते नज़र आए। इसके साथ ही सीएम को गाने पर थिरकते भी देखा गया। 

सोमवार को विधानसभा के शीतकालीन सत्र की शुरुआत होने के बाद सीएम ने अपने आवास पर सभी विधायकों को रात्रि भोज पर आमंत्रित किया। डिनर में शामिल होने के लिए विधायकों को सपरिवार आने का न्योता दिया गया था। सीएम आवास पर इस अयोजन के दौरान पंचायत मंत्री महेंद्र सिंह सिसोदिया ने स्टेज पर पहुंच कर समा बांधना शुरू कर दिया। 

यह भी पढ़ें : भरी सदन में जया बच्चन ने दिया बीजेपी को श्राप, बोलीं जल्द आएंगे आपके बुरे दिन

महेंद्र सिंह सिसोदिया माइक को हाथों में थामकर शोले फिल्म का बहुचर्चित गाना ये दोस्ती हम नहीं तोड़ेंगे गुनगुना शुरू कर दिया। महेंद्र सिंह सिसोदिया को गुनगुनाते देख गोविंद सिंह राजपूत ने भी सिसोदिया के सुर में सुर मिलाना शुरू कर दिया। इस दौरान तुलसीराम सिलावट और बृजेंद्र सिंह यादव समेत अन्य सिंधिया समर्थक मंत्री भी मौजूद थे। 

सिंधिया समर्थकों को गाना गाते देख सीएम शिवराज भी खुद को नहीं रोक पाए और उन्होंने भी उनके साथ इस गाने को गुनगुना शुरू कर दिया। सीएम इस गाने पर थिरकते भी नजर आए। इसका वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है।

यह भी पढ़ें : गोडसे समर्थकों को फांसी देने की वरुण गांधी ने की वकालत, हिंदू महासभा बोली हम गोडसे के नारे लगाएंगे

सीएम शिवराज को सिंधिया समर्थकों से दोस्ती न तोड़ने का आश्वासन लेता देख सोशल मीडिया पर जमकर ट्रोल किया जा रहा है। लोग बीजेपी की आंतरिक गुटबाजी की चर्चा करते हुए कह रहे हैं कि मध्य प्रदेश बीजेपी में जिस तरह से सीएम के खिलाफ गुटबाजी बढ़ रही है, उसका अंदाज़ा खुद सीएम को भी है। सहारे के तौर पर उनके पास सिर्फ अब सिंधिया समर्थक नेता ही बचे हैं। इसलिए वे सिंधिया समर्थकों से दोस्ती न तोड़ने का आश्वासन ले रहे हैं। वहीं सिंधिया समर्थकों की चुटकी लेते हुए सोशल मीडिया यूजर्स कह रहे हैं कि सीएम शिवराज और सिंधिया समर्थकों की बीजेपी में हालत एक जैसी ही है। लिहाज़ा सीएम और सिंधिया समर्थकों को अब एक दूसरे का ही सहारा है। इसलिए वे दोस्ती बनाए रखने की कसमें खा रहे हैं।