12 लाख सांडों की नसबंदी कराएगी शिवराज सरकार, कांग्रेस बोली- मामू के दिमाग में भरा गोबर

अजब एमपी के गजब आदेश, 12 करोड़ रुपए खर्च कर 12 लाख सांडों की होगी नसबंदी, खुद बीजेपी सांसद विरोध में उतरे, कांग्रेस बोली- गोवंश की दुर्दशा का नसबंदी समाधान नहीं

Updated: Oct 13, 2021, 05:04 PM IST

12 लाख सांडों की नसबंदी कराएगी शिवराज सरकार, कांग्रेस बोली- मामू के दिमाग में भरा गोबर
Photo Courtesy: MPBreaking

भोपाल। बीजेपी शासित मध्य प्रदेश में गोवंशों की दुर्दशा की खबरें लगातार सामने आ रहीं हैं। इसी बीच अब राज्य सरकार के एक फैसले ने विवाद खड़ा कर दिया है। दरअसल, शिवराज सरकार ने करीब 12 लाख सांडों की नसबंदी करने का आदेश जारी किया है। सांडों के बधियाकरण में 12 करोड़ रुपए खर्च किए जाएंगे। कांग्रेस ने इस फैसले पर कहा है कि मामू शिवराज के दिमाग में गोबर भर गया है, इसलिए ऐसे उलजुलूल आदेश जारी हो रहे हैं।

रिपोर्ट्स के मुताबिक राज्य सरकार के पशुपालन विभाग ने सभी कलेक्टरों को कहा है कि गांवों में जितने भी निकृष्ट सांड हों उनकी नसबंदी कर दें। शासन द्वारा कलेक्टरों को जारी पत्र में नसबंदी का कारण गोवंशों की बढ़ती संख्या को बताया गया है। अगले 23 अक्टूबर से इसके लिए विशेष अभियान शुरू करने के निर्देश दिए गए हैं। सरकारी अनुमान के मुताबिक प्रदेश में ऐसे करीब 12 लाख गोवंश हैं।

यह भी पढ़ें: इंदौर में बना कोरोना रूपी रावण, 15 फीट लंबे इंजेक्शन से होगा वध, सैनिटाइजर वाले रावण की भी चर्चा

सरकार के इस अजीबोगरीब फैसले ने विवाद खड़ा कर दिया है। कांग्रेस ने मामले पर सीएम शिवराज को निशाने पर लेते हुए कहा है कि मामू शिवराज के दिमाग में गोबर भर गया है इसलिए ऐसे उलजुलूल आदेश जारी हो रहे हैं। यूथ कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता आनंद जाट ने कहा, 'गौवंशों की दुर्गति का समाधान नसबंदी नहीं है। गाय बीजेपी के लिए सिर्फ राजनीति का विषय है। लेकिन जब बात गोवंश के संरक्षण और संवर्धन की आती है तो वे मुंह फेर लेते हैं। यह बेहद दुर्भाग्यपूर्ण फैसला है।

आनंद जाट ने आगे कहा कि, 'कमलनाथ सरकार ने प्रदेश में हजारों गौशालाओं को निर्माण कराया था और चारे के लिए दी जाने वाली राशि बढ़ाई थी। लेकिन अनैतिक रूप से सत्ता में आने के बाद बीजेपी ने चारे की राशि को घटाया और गौवंशों से उनका आश्रय भी छीन लिया। अब शिवराज सरकार करोडों रुपए डकारने के लिए नसबंदी अभियान लाई है। इन रुपयों को यदि गौशालाओं में खर्च किया जाता तो आज गोवंश की यह दुर्दशा नहीं होती। सीएम शिवराज गाय को माता कहते हैं। उन्हें शर्म आनी चाहिए। ऐसे नालायक बेटों से बेहतर तो बेऔलाद होना है।'

BJP सांसद ने भी किया विरोध

राज्य सरकार के इस फैसले का अब खुद बीजेपी के नेताओं ने भी विरोध करना शुरू कर दिया है। भोपाल सांसद साध्वी प्रज्ञा ने कहा है कि गोवंशों के साथ क्रूरता की हदें पार की जा रही है। उन्होंने कहा है कि इतने बड़े स्तर पर नसबंदी से तो प्रजनन ही बंद हो जाएगा। उन्होंने सीएम शिवराज और पशुपालन मंत्री प्रेम सिंह पटेल से इस अभियान पर तत्काल रोक लगाने की मांग की है।