मूर्ति तोड़ने के शक में विक्षिप्त बुजुर्ग को बेरहमी से पीटा, लाठी-डंडों से हाथ तोड़ डाला, लोग वीडियो बनाते रहे

मध्यप्रदेश के नीमच से एक खौंफनाक वीडियो सामने आया है, इसमें देखा जा सकता है कि कुछ कथित रूप से हिंदू संगठनों के लोग विक्षिप्त बुजुर्ग की पिटाई कर रहे हैं

Updated: Jul 17, 2021, 04:15 PM IST

मूर्ति तोड़ने के शक में विक्षिप्त बुजुर्ग को बेरहमी से पीटा, लाठी-डंडों से हाथ तोड़ डाला, लोग वीडियो बनाते रहे

नीमच। मध्य प्रदेश के नीमच से एक खौंफनाक वीडियो सामने आया है। यहां कुछ कथित रूप से हिंदू संगठनों से जुड़े युवाओं ने एक बुजुर्ग की बेरहमी से पिटाई की। युवकों ने बुजुर्ग को पीट-पीटकर हाथ तोड़ डाला। युवक बुजुर्ग पर मूर्ति तोड़ने का आरोप लगा रहे थे, जबकि वह मानसिक रूप से विक्षिप्त हैं। हैरानी की बात ये है कि वहां मौजूद लोग बुजुर्ग को बचाने के बजाए इस घटना का वीडियो बनाने में जुटे रहे।

मामला नीमच के मूलचंद मार्ग का है। यहां शुक्रवार शाम करीब सात बजे के करीब 3 युवक एक बुजुर्ग को सरेआम पीटने लगे। इसका वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है। वीडियो में देखा जा सकता है कि एक युवक गाली देते हुए कह रहा है कि इस बुजुर्ग ने बजरंगबली की मूर्ति तोड़ दी है। बताया जा रहा है कि शक के आधार पर आरोपियों ने बुजुर्ग की बाल काट दी, साथ ही इतना पीटा की बुजुर्ग का हाथ टूट गया। 

इतने से भी आरोपियों का मन नहीं भरा तो वे दर्द से कराहते बुजुर्ग को घसीटकर लाते हैं और बड़ी बेदर्दी से बाइक पर जबरन बिठाने की कोशिश करने लगते हैं। बुजुर्ग व्यक्ति बुरी तरह घायल अवस्था में बाइक पर ही लटक जाता है। विडंबना ये है कि अमानवीयता की सारी हदें पार कर देने वाले इस पूरे घटनाक्रम के दौरान आसपास सैंकड़ों लोग मौजूद थे, लेकिन बुजुर्ग को कराहता देख किसी का दिल नहीं पसीजा, उल्टा लोग वीडियो बनाने में मशरूफ रहे।

यह भी पढ़ें: MP: दो बच्चों के कानून की पैरवी करने वाली BJP के करीब 40 फीसदी विधायकों के हैं 3 से 9 बच्चे

बताया जा रहा है कि पीड़ित मानसिक रूप से बीमार हैं, तथा कई साल पहले ही घर छोड़कर वे शमशान में रहने लगे हैं। कुछ लोग उन्हें पागल तो कुछ अघोरी कहते हैं। मामले में नीमच सीएसपी राकेश मोहन शुक्ल ने कहा है कि, 'सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो को संज्ञान में ले लिया गया है। किसी को भी अधिकार नहीं है कि वह इस तरह मारपीट करें और विक्षिप्त व्यक्तियों के मामले में अलग से कानून भी है। वीडियो के आधार पर पुलिस आरोपियों की तलाश में जुट गई है और उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।