MP में हमारी सरकार थी, उन्होंने 20-25 भ्रष्ट MLAs को खरीदकर सरकार बनाई: बुरहानपुर में बोले राहुल गांधी

हिंसा कोई चीज नहीं होती। हिंसा डर का ही एक रुप है। जो डरता नहीं है, वो हिंसा भी नहीं कर सकता है। जो डरता है, वो ही हिंसा करता है: राहुल गांधी

Updated: Nov 23, 2022, 08:55 PM IST

MP में हमारी सरकार थी, उन्होंने 20-25 भ्रष्ट MLAs को खरीदकर सरकार बनाई: बुरहानपुर में बोले राहुल गांधी

बुरहानपुर। मध्य प्रदेश के बुरहानपुर में भारत जोड़ो यात्रा के पहले दिन राहुल गांधी ने पब्लिक रैली को संबोधित किया। इस दौरान राहुल केंद्र और राज्य सरकार पर हमलावर दिखे। उन्होंने कहा कि, ' मध्य प्रदेश में हमारी सरकार थी। लेकिन उन्होंने (BJP) 20-25 भ्रष्ट MLAs को खरीदकर सरकार बना ली।

बुरहानपुर में पदयात्रा के दौरान उमड़े जनसैलाब और लोगों का स्नेह पाकर राहुल गांधी बेहद प्रसन्न दिखे।
उन्होंने कहा कि, 'केरल में सबसे ज्यादा भीड़, उसके बाद कर्नाटक ने उसका रिकॉर्ड तोड़ दिया। हमें लगा इतनी भीड़ और कहीं नहीं होगी। लेकिन महाराष्ट्र ने इसे गलत साबित किया। महाराष्ट्र में अबतक की सबसे ज्यादा भीड़ थी। लेकिन मध्य प्रदेश ने पहले ही दिन उसका भी रिकॉर्ड तोड़ दिया। इस प्यार भरे स्वागत के लिए आप सबको बहुत-बहुत धन्यवाद।'

राहुल गांधी ने आगे कहा कि, 'यात्रा हमने कन्याकुमारी में शुरु की थी, और जब हमने शुरु की, तो विपक्ष के लोगों ने कहा था कि हिंदुस्तान 3,300 किलोमीटर लंबा है और ये पैदल किया नहीं जा सकता और अब हम मध्य प्रदेश आए हैं, 370 किलोमीटर यहाँ चलेंगे और ये जो यात्रा में हमारे साथ तिरंगा है, इसे हम श्रीनगर में लहराएंगे। इसे कोई नहीं रोक सकता। ये श्रीनगर जाएगा और वहाँ पर इस तिरंगे को हम लहराएंगे।'

पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष ने आगे कहा कि, 'यात्रा के पीछे 2-3 लक्ष्य हैं। सबसे पहला- जो नफरत, हिंसा और डर हिंदुस्तान में फैलाया जा रहा है, उसके खिलाफ ये यात्रा है। देखिए, तरीका क्या है, बीजेपी का- सबसे पहले डर फैलाना। किनके दिल में डर- युवाओं के दिल में। कैसे- बेरोजगारी बढ़ाकर। हमारे जो उत्पादक हैं, जो किसान हैं, उनके दिल में डर, कैसे- सही दाम न देकर, बीमा का पैसा न देकर, कर्जा माफ न करके। मजदूरों के दिल में डर, कैसे- मनरेगा को न चलाकर। तो ये पहले डर फैलाते हैं और फिर जब अच्छी तरह फैल जाता है, फिर उसको वो हिंसा में बदल देते हैं।'

राहुल गांधी ने कहा कि, 'हिंसा कोई चीज नहीं होती। हिंसा डर का ही एक रुप है। जो डरता नहीं है, वो हिंसा भी नहीं कर सकता है। जो डरता है, वो ही हिंसा करता है। तो पहला लक्ष्य हिंदुस्तान के जो उत्पादक हैं, जो किसान हैं, जो मजदूर हैं, जो युवा हैं, माताएं-बहनें हैं, उनके दिल से डर मिटाना। मतलब, डरो मत, किसी से डरो मत, ये हिंदुस्तान है।'

शिक्षा के विषय पर राहुल गांधी ने कहा कि, 'सारे के सारे शिक्षा के इंस्टीट्यूशन प्राईवेटाइज हो गए हैं। तो अगर रुद्रा को डॉक्टर बनना है, तो लाखों रुपए पहले माता-पिता की जेब से निकलने होंगे, करोड़ों, और उसके बाद रूद्रा को पता लगेगा कि माता-पिता के खून पसीने ने उसको शिक्षा दिलवाई, मगर जब डॉक्टर बनने का टाइम आया, वो डॉक्टर नहीं बन पाएगा और उसको मजदूरी करनी पड़ेगी। ये है आज का हिंदुस्तान। ऐसा हिंदुस्तान हम नहीं चाहते हैं, बेरोजगारी का हिंदुस्तान हम नहीं चाहते हैं।'