पैट कमिंस ने पीएम केयर्स फंड में दिए 38 लाख, साथी आईपीएल खिलाड़ियों से भी की योगदान करने की अपील

पैट कमिंस ने कोरोना काल में भारतीय लोगों की मदद की, ऑक्सीजन सप्लाई के लिए पीएम केयर्स फंड में दिया 50 हज़ार डॉलर का योगदान

Updated: Apr 26, 2021, 06:12 PM IST

पैट कमिंस ने पीएम केयर्स फंड में दिए 38 लाख, साथी आईपीएल खिलाड़ियों से भी की योगदान करने की अपील

नई दिल्ली। ऑस्ट्रेलियन तेज़ गेंदबाज पैट कमिंस ने पीएम केयर्स फंड में योगदान दिया है। कमिंस कोरोना से लड़ रहे भारतीय लोगों की सहायता के लिए आगे आए हैं। कमिंस ने इसके लिए पीएम केयर्स फंड में 50 हज़ार डॉलर का योगदान दिया है। भारतीय रुपए के हिसाब से यह करीब 38 लाख बैठता है। कमिंस ने यह राशि भारत में ऑक्सीजन सप्लाई के लिए दी है।

अपने इस योगदान की जानकारी खुद पैट कमिंस ने अपने ट्विटर हैंडल पर दी है। कमिंस ने आईपीएल में खेलने वाले अन्य खिलाड़ियों की भी मदद करने की अपील की है। कमिंस ने पीएम केयर्स फंड में राशि जमा करने की जानकारी अपने एक बेहद भावुक पोस्ट में दी है। 

आईपीएल में शाहरुख खान की टीम कोलकाता नाइट राइडर्स के लिए खेलने वाले कमिंस ने कहा कि मैं काफी समय से भारत आता रहा हूं। विश्व भर में सबसे ज़्यादा दयालु और बेहतरीन लोग यहां रहते हैं। लेकिन इस समय में भारत को संकट के इस दौर से गुजरता देख काफी दुखी हूं। कमिंस ने इस दौर में आईपीएल के आयोजन पर भी अपनी राय रखी है। कमिंस ने कहा है कि संकट के इस दौर में जब कोरोना अपने चरम पर है, ऐसे समय में आईपीएल के आयोजन को कई सवाल खड़े किए जा रहे हैं। लेकिन यहां कि सरकार फिर भी आईपीएल को इसलिए जारी रखना चाहती है ताकि लॉकडाउन में रहने को मजबूर जनता को कुछ घंटों की खुशी मिल सके।

यह भी पढ़ें : कोरोना के बढ़ते संक्रमण के बीच आईपीएल छोड़ रहे हैं खिलाड़ी, लेकिन बीसीसीआई ने कहा, आईपीएल जारी रहेगा

ऑस्ट्रेलियाई तेज़ गेंदबाज कमिंस ने अपने पोस्ट में आगे लिखा है कि मैं भारत के अस्पतालों में ऑक्सीजन सप्लाई के लिए 50 हज़ार डॉलर का योगदान दे रहा हूं। कमिंस ने अपने साथी खिलाड़ियों ने भी योगदान देने की अपील करते हुए कहा है कि मैं आईपीएल के अपने साथी खिलाड़ियों और दुनिया में रहने वाले किसी भी आदमी से अपील करता हूं कि जिस किसी भी व्यक्ति के दिल को भारत की उदारता ने छुआ हो, वीं ज़रूर अपना योगदान दे। कमिंस ने कहा कि मेरा योगदान बड़ा नहीं है, लेकिन मुझे उम्मीद है कि मेरा यह योगदान किसी न किसी व्यक्ति के काम ज़रूर आएगा।