केंद्रीय एजेंसियों को सीएम बघेल की चेतावनी, नागरिकों को पीटा तो राज्य की पुलिस करेगी कार्रवाई

कांग्रेस शासित छत्तीसगढ़ में केंद्रीय एजेंसियों पर लगे गुंडागर्दी के आरोप, सीएम बघेल बोले- लोगों को रॉड से पीटा, किसी के पैर टूटे तो किसी को सुनाई नहीं दे रहा।

Updated: Nov 28, 2022, 03:29 PM IST

केंद्रीय एजेंसियों को सीएम बघेल की चेतावनी, नागरिकों को पीटा तो राज्य की पुलिस करेगी कार्रवाई

रायपुर। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने केंद्रीय जांच एजेंसियों द्वारा की जा रही छापेमारी पर गंभीर आरोप लगाया है। मुख्यमंत्री ने ट्वीट कर कहा है कि ईडी लोगों को जबरन घर से उठा रही है, उन्हें रॉड से पीट रही है और दवाब डालकर मन चाहा बयान दिलवाने को बाध्य कर रही है। मुख्यमंत्री ने जांच एजेंसियों को खुली चेतावनी देते हुए कहा कि राज्य की पुलिस आपके खिलाफ कार्रवाई करेगी।

सीएम बघेल ने ट्वीट किया, 'केंद्रीय एजेंसियां देश के नागरिकों की ताकत होती हैं, यदि इन ताकतों से नागरिक डरने लगें तो निश्चित ही यह नकारात्मक शक्ति देश को कमजोर करती है। ED और इनकम टैक्स जैसी एजेंसियां भ्रष्टाचार करने वालों पर कानूनी कार्रवाई करें, हम इसका स्वागत करते हैं। लेकिन जिस प्रकार से ED और इनकम टैक्स के अधिकारियों द्वारा लोगों से पूछताछ के दौरान गैर कानूनी कृत्य सामने आ रहे हैं, वो बिल्कुल भी स्वीकार करने योग्य नहीं हैं।'

सीएम बघेल ने आगे लिखा कि, 'लोगों को वहीं समन देकर जबरन घर से उठाना, उनको मुर्गा बनाना, मार-पीट कर दवाब डालकर मन चाह बयान दिलवाने को बाध्य करना, आजीवन जेल में सड़ने की धमकी देना, बिना खाना-पानी के देर रात तक रोक कर रखना जैसे गंभीर शिकायतें प्राप्त हो रही हैं। स्थानीय पुलिस को सूचना दिए बिना CRPF को साथ लेकर छापा मारी कर रहे हैं। अधिकारियों से शिकायत प्राप्त हुई है कि कुछ लोगों को रॉड से पीट रहे हैं, किसी का पैर टूटा है तो किसी को सुनाई देना बंद हो गया है।'

उन्होंने चेतावनी देते हुए लिखा कि, 'इन घटनाओं से प्रदेश की जनता बहुत गुस्से में है। राजनीतिक षड्यंत्र की पूर्ति के उद्देश्य से झूठे प्रकरण बनाने का खेल प्रतीत हो रहा है। अधिकारियों को निर्देशित किया है कि भारत सरकार को इन सब घटनाओं की जानकारी दी जाए और अवैधानिक कृत्यों पर रोक लगायी जाए। जिससे भी पूछताछ हो, उसकी विडियोग्राफ़ी हो। विधिक ढंग से जांच में हमारा पूर्ण सहयोग रहेगा। यदि ऐसी शिकायतें हमें आगे भी प्राप्त होंगी, तो राज्य की पुलिस विधिक रूप से कार्रवाई हेतु विवश होगी। हमारे नागरिकों की सुरक्षा हेतु हम कृत संकल्पित हैं। सनद रहे।'