अमेजन पर बरसे बाइडेन, बोले, फेडरल टैक्स से बचने के लिए लूप होल्स ढूंढती है कंपनी

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने कॉरपोरेट टैक्स बढ़ाने के दिए संकेत, बोले, एक शिक्षक भी 22 फीसदी टैक्स देता है लेकिन अमेजन और 90 अन्य कॉर्पोरेशन फेडरल टैक्स में जीरो टैक्स देते हैं

Publish: Apr 01, 2021, 06:51 PM IST

अमेजन पर बरसे बाइडेन, बोले, फेडरल टैक्स से बचने के लिए लूप होल्स ढूंढती है कंपनी
Photo Courtesy : Fox Businnes

वॉशिंगटन। अमेरिकी फेडरल इनकम टैक्स में अमेजन कितने पैसे देती है इस बात पर अमेरिका में एक बार फिर से बहस छिड़ गई है। राष्ट्रपति जो बाइडेन ने टेक कंपनी अमेजन पर निशाना साधते हुए कहा है कि ये कंपनियां फेडरल टैक्स में एक भी डॉलर नहीं देती। इतना ही नहीं बाइडेन ने यह भी कहा है कि अमेजन टैक्स से बचने के लिए लूप होल्स ढूंढती है।

राष्ट्रपति बाइडेन ने बुधवार को पिट्सबर्ग के पेंनयसिल्वनिया में मल्टीनेशनल कंपनियों पर टैक्स के बोझ और कॉरपोरेट टैक्स रेट बढ़ाने को लेकर खुलकर बातें की। बाइडेन ने यहां लोगों को संबोधित करते हुए अपने इंफ्रास्ट्रक्चर प्लान्स को लेकर भी बातें की। उन्होंने कहा कि देश में कॉरपोरेट टैक्स को 21 फीसदी से बढ़ाकर 28 फीसदी किया जाएगा। इसके साथ ही टैक्स कोड में कई बदलाव किए जाएंगे और मल्टीनेशनल कंपनियां टैक्स से बचने के लिए लूप होल्स का इस्तेमाल करने से रोका जाए, ताकि वे अपने कमाई के बड़े हिस्से को विदेशों में न भेज सकें।

बाइडेन ने साल 2019 की एक रिपोर्ट का जिक्र करते हुए सीधे तौर पर Amazon.com को कठघरे में खड़ा किया। बाइडेन ने कहा कि फार्च्यून 500 कंपनियों में से 91 कंपनियों ने साल 2018 में टैक्स नहीं दिए। इनमें से एक अमेजन भी शामिल है। उन्होंने कहा, 'एक फायरमैन से लेकर शिक्षक तक को 22 फीसदी टैक्स देना पड़ता है, लेकिन अमेजन समेत 90 अन्य कॉर्पोरेशन शून्य फेडरल टैक्स दे रही है। मैं उन्हें दंडित नहीं करना चाहता हूं लेकिन यह गलत है।'

यह भी पढ़ें: पोत फंसने से स्वेज नहर में जाम के लिए भारतीय क्रू मेंबर्स बन सकते हैं बलि का बकरा

बता दें कि यह पहली बार नहीं है जब बाइडेन ने टेक जिएंट अमेजन को निशाने पर लिया है। इसके पहले उन्होंने जून 2019 में अमेजन का नाम लेते हुए कहा है कि किसी कंपनी को यह अधिकार नहीं है कि वह अरबों डॉलर कमाए और टैक्स एक फायरमैन और शिक्षक से भी कम दे। अमेजन ने दो साल तक जीरो डॉलर फेडरल टैक्स देने के बाद साल 2019 से फेडरल इनकम टैक्स देना शुरू किया है।