इमरान सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव खारिज, संसद भंग, 90 दिन में फिर से चुनाव

डिप्टी स्पीकर ने विदेशी साजिशों का हवाला देकर अविश्वास प्रस्ताव को खारिज किया, इमरान खान ने राष्ट्रपति से की संसद भंग करने की सिफारिश, राष्ट्रपति में संसद भंग कर दिया, इमरान ने लोगों से कहा- चुनाव के लिए तैयार रहें, विपक्ष ने किया सुप्रीम कोर्ट का रुख

Updated: Apr 03, 2022, 02:54 PM IST

इमरान सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव खारिज, संसद भंग, 90 दिन में फिर से चुनाव
Photo Courtesy: NDTV

इस्लामाबाद। पाकिस्तान की संसद में आज बड़ा उलटफेर देखने को मिला है। दरअसल, इमरान खान सरकार के खिलाफ आज अविश्वास प्रस्ताव पर वोंटिंग होनी थी। लेकिन सदन के डिप्टी स्पीकर कासिम खान सूरी ने विदेशी साजिश का आरोप लगाकर अनुच्छेद 5 के तहत अविश्वास प्रस्ताव को खारिज कर दिया। पाकिस्तान के नेशनल असेंबली को 25 अप्रैल तक के लिए स्थगित भी कर दिया गया है।

अविश्वास प्रस्ताव खारिज होने के बाद इमरान खान ने राष्ट्रपति से नेशनल असेंबली को भंग करने की सिफारिश की। राष्ट्रपति ने इमरान खान की सिफारिश को स्वीकार करते हुए संसद भंग कर दिया। अब 90 दिनों के भीतर पड़ोसी मुल्क में दोबारा आम चुनाव होंगे। हालांकि, विपक्ष ने इसे असंवैधानिक करार देते हुए सुप्रीम कोर्ट का रुख किया है। शीर्ष अदालत ने मामले को गंभीरता से लेते हुए आधे घंटे के भीतर स्पेशल बेंच गठित किया है।

यह भी पढ़ें: इमरजेंसी लगने के बाद श्रीलंका में फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम सहित अभी सोशल साइट्स पर लगी पाबंदी

पाकिस्तान मुस्लिम लीग नवाज की मरियम नवाज ने कहा कि विपक्ष ने सुप्रीम कोर्ट जाने का फैसला किया है. वहीं, पाकिस्तान पीपल्स पार्टी के मुस्तफा नवाज खोखर का कहना है कि उनके वकील कोर्ट पहुंच रहे हैं और मुख्य न्यायाधीश से नोटिस लेने की अपील कर रहे हैं। इसी बीच प्रधानमंत्री इमरान खान ने आवाम के नाम एक भावुक संदेश दिया।

इमरान खान ने देश के नाम अपने संबोधन में कहा कि उन्होंने राष्ट्रपति आरिफ अल्वी को सभी विधानसभाओं को भंग करने का प्रस्ताव दिया है। उन्होंने विदेशी साजिशों की बात दोहराते हुए कहा कि, 'मैं सारी कौम को मुबारक देता हूं। मेरे और मुझसे ज्यादा पाकिस्तान के खिलाफ साजिश हो रही थी। अल्लाह देख रहा है। कौम ये सब नहीं होने देगी। हमारे भविष्य का फैसला विदेशी ताकतें नहीं करेंगी, बल्कि फैसला आपका होगा।' उन्होंने आवाम से चुनाव की तैयारियां करने की अपील की है।

विपक्षी नेता बिलावल भुट्टो ज़रदारी ने एक वीडियो जारी कर अविश्वास प्रस्ताव खारिज होने का विरोध किया है। उन्होंने कहा कि 'सरकार ने संविधान का उल्लंघन किया है, जो इन्होंने प्रस्ताव पर वोटिंग नहीं होने दी। संयुक्त विपक्ष संसद से जाने वाला नहीं है. हमारे वकील सुप्रीम कोर्ट जा रहे हैं। हम सभी संस्थाओं की सुरक्षा, रक्षा और पाकिस्तान के संविधान के लागू करने को लेकर आह्वान कर रहे हैं।'

सियासी घमासान के बीच राजधानी इस्लामाबाद में कर्फ्यू लगा दिया गया है। देश में राजनीतिक हिंसा होने के भी आसार हैं। पीएम इमरान खान पहले ही लोगों को सड़कों पर उतरने का आह्वान कर चुके हैं। ऐसे में यदि लाखों की संख्या में पक्ष-विपक्ष के समर्थक सड़कों पर आएंगे तो टकराव होना तय माना जा रहा है। इन सब के बीच लंदन में पाकिस्तान के पूर्व पीएम नवाज शरीफ पर हमले की खबर है। इस दौरान उनका बॉडीगार्ड घायल हो गया। नवाज की बेटी मरियम नवाज ने इसके लिए पाकिस्तान के मौजूदा पीएम इमरान खान की पार्टी पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (PTI) को जिम्मेदार ठहराया है।