नेमावर हत्याकांड में सीबीआई ने दर्ज की एफआईआर, 9 लोगों को बनाया आरोपी

पीड़ित परिवार ने सीबीआई जांच की मांग की थी, मृतक परिवार की सदस्य भारती कासडे ने 1 जनवरी 2022 को नेमावर से भोपाल तक न्याय यात्रा भी निकाली थी

Updated: May 11, 2022, 01:39 PM IST

नेमावर हत्याकांड में सीबीआई ने दर्ज की एफआईआर, 9 लोगों को बनाया आरोपी

देवास। मध्यप्रदेश के चर्चित नेमावर आदिवासी हत्याकांड में सीबीआई ने देवास के नेमावर में 9 लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली है। 13 मई 2021 को देवास के नेमावर में आदिवासी परिवार के 5 सदस्यों की हत्या कर लाशों को 10 फीट गहरे गड्ढे में दफन कर दिया गया था।

यह भी पढ़ें:शिक्षा मंत्री इंदर सिंह परमार की बहू ने लगाई फांसी, पारिवारिक विवाद हो सकता है वजह

जिसके बाद पीड़ित परिवार ने सीबीआई जांच की मांग की थी और मृतक परिवार की सदस्य भारती कासडे ने 1 जनवरी 2022 को नेमावर से भोपाल तक न्याय यात्रा निकाली थी और राज्यपाल से राजभवन, भोपाल आकार न्याय की गुहार लगाई थी।

बता दें कि न्याय यात्रा में पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ, राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह, पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा सहित कई कांग्रेस नेता शामिल हुए थे। इससे पहले पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ, पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह, पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा ने नेमावर जाकर पीड़ित परिवार से मुलाकात भी की थी और जल्द से जल्द दोषियों को फांसी की सजा की मांग की थी। जिसके बाद विपक्ष के दवाब के कारण सरकार ने इस मामले की जांच सीबीआई को सौंपने का फैसला किया था।

यह भी पढ़ें: MP में खुलेगी NIA की ब्रांच, आतंकवादी गतिविधियों पर रखी जायेगी नजर

एफआईआर में दर्ज आरोपियों में सुरेंद्र सिंह राजपूत, वीरेंद्र उर्फ ​​भूरू, मनोज कोरकू, विवेक तिवारी, करण कोरकू, राजकुमार कीर, अरविंद और धर्मेंद्र उर्फ ​​माइकल, सभी देवास और राकेश निमारे के नाम शामिल हैं।

यह भी पढ़ें: सुप्रीम कोर्ट ने राजद्रोह कानून पर लगाई रोक, जेल में बंद आरोपी भी लगा सकेंगे जमानत अर्जी

 सीबीआई ने आईपीसी की धारा 363, 302, 364, 376, 376(2)(n), 120-B, 201 और पॉक्सो एक्ट, 2012 की धारा 5(I)/6,  एससी/एसटी (अत्याचार निवारण) अधिनियम, 1989 की धारा 3(2) (v), 3(2) (va) और आईटी अधिनियम, 2002 के 66बी, 66सी, के तहत नौ आरोपियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है।