छतरपुर में दलित युवक ने छू दिया खाना तो दबंगों ने पीट-पीटकर मार डाला

मध्य प्रदेश के छतरपुर में छुआछूत का शर्मनाक वाकया, पार्टी के दौरान खाना छूने पर दबंगों ने की दलित की हत्या, आरोपी फरार

Updated: Dec 10, 2020, 01:58 PM IST

छतरपुर में दलित युवक ने छू दिया खाना तो दबंगों ने पीट-पीटकर मार डाला

छतरपुर। मध्य प्रदेश के छतरपुर में छुआछूत का शर्मनाक वाकया सामने आया है। ऊंची जाति के दबंगों ने एक दलित युवक की पीट-पीटकर हत्या कर दी। दलित युवक का कसूर बस इतना था कि उसने कथित ऊंची जाति के लोगों का खाना छू दिया था। इस बात पर दबंगों का गुस्सा इतना बढ़ गया कि उन्होंने युवक की नृशंसता से हत्या कर दी।

मानवता को शर्मसार करने वाली यह घटना छतरपुर जिला मुख्यालय से करीब 100 किलोमीटर दूर गौरिहर थाना क्षेत्र के किशनपुर गांव की है। बताया जा रहा है कि गांव के ही भूरा सोनी और संतोष पाल एक खेत में पार्टी कर रहे थे। उन्होंने मृतक देवराज अनुरागी को इस पार्टी में साफ-सफाई करने के लिए बुलाया था। देवराज अनुरागी पार्टी के दौरान अपने हाथों से खाना निकालकर खाने लगा। यह बात भूरा और संतोष को नागवार गुजरी। उन्होंने देवराज की लाठी डंडों से बुरी तरह पिटाई कर दी, जिसके कुछ ही देर बाद उसने दम तोड़ दिया।

पुलिस अधीक्षक (एसपी) सचिन शर्मा ने बुधवार को बताया कि घटना गौरीहार थाना क्षेत्र के किशनपुर गांव में सोमवार रात को हुई। शर्मा ने मृतक देवराज अनुरागी (25) के परिवार के सदस्यों के तहरीर के हवाले से बताया कि संतोष और भूरा ने पार्टी में शराब पी रखी थी और नशे में धुत थे। आरोपियों ने नशे में ही देवराज की लाठी डंडों से बुरी तरह पिटाई कर दी, फिर उसे घायल अवस्था में छोड़कर चले गए। 

देवराज जब दो घंटे बाद घर लौटा तो उसने परिवार को बताया कि उसके द्वारा भोजन छूने पर आरोपियों ने उसकी जमकर पिटाई की गई। उन्होंने बताया कि देवराज की पीठ पर चोट के निशान थे। घर पहुंचने के कुछ देर बाद उसने सीने में दर्द की शिकायत की और घर पर ही दम तोड़ दिया।

मामले पर गौरीहार थाना प्रभारी जसवंत सिंह राजपूत ने बताया कि अनुरागी सोमवार रात पार्टी के दौरान जब खुद के लिए खाना निकालने लगा तब सोनी और पाल उसके साथ गाली गलौज करने लगे। उन लोगों ने वहां रखे लाठी-डंडे से उसकी बेरहमी से पिटाई की, जिससे उसकी मौत हो गई है। घटना के बाद से दोनों आरोपी भूरा सोनी और संतोष पाल फरार है। दोनों के खिलाफ हत्या और एससी-एसटी एक्ट के तहत केस दर्ज किया गया है। भूरा का पुराना आपराधिक रेकॉर्ड भी है। पुलिस ने पोस्टमार्टम के बाद परिजनों को शव सौंप दिया है।