खाद की किल्लत पर मुख्यमंत्री हुए मौन, कांग्रेस हुई मुखर

मध्य प्रदेश के किसान इस समय खाद की किल्लत से परेशान हैं, वितरण केंद्र पर किसान रोजाना घंटों तक लाइन में लगे रहने पर मजबूर हैं, लेकिन इसके बावजूद उन्हें खाद नहीं मिल पा रहा है

Updated: Oct 23, 2021, 01:46 PM IST

खाद की किल्लत पर मुख्यमंत्री हुए मौन, कांग्रेस हुई मुखर

भोपाल। मध्य प्रदेश में खाद का संकट लगातार बढ़ता जा रहा है। किसान दर दर की ठोकरें खाने पर मजबूर हैं। लेकिन खुद को किसान पुत्र बताने वाले प्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान से जब खाद संकट को लेकर खजुराहो एयरपोर्ट पर सवाल किया गया, तो उन्होंने चुप्पी साध ली। इतना ही नहीं जवाब में सीएम ने अपने हाथ जोड़ लिए और वहां से चलते बने। वहीं खाद की किल्लत से जूझ रहे किसानों के समर्थन में कांग्रेस पार्टी मुखर हो गई है। कांग्रेस लगातार किसानों की मांग उठा रही है, साथ ही शिवराज सरकार पर निशाना भी साध रही है।

कांग्रेस नेता जयवर्धन सिंह ने राज्य सरकार के खाद की किल्लत न होने के दावे को खारिज करते हुए खाद वितरण केंद्र पर लाइन में लगे हुए किसानों की तस्वीर भी साझा की है। जयवर्धन सिंह ने राज्य सरकार पर हमला बोलते हुए कहा है कि खाद के लिए लाइन ही है, पर खाद नहीं है। लेकिन सरकार कह रही खाद की कोई कमी नहीं है, फिर खाद गया कहाँ??

प्रदेश के कई हिस्सों में किसानों को खाद के संकट से जूझने की खबरे आ रही हैं। आए दिन किसान खाद वितरण केंद्रों पर हंगामा करते नजर आते हैं, लेकिन इसके बावजूद उनकी समस्याओं का निवारण नहीं हो पाता। खाद के लिए कभी किसान खुद कतार में लगे हुए नज़र आते हैं। यहां तक कि किसानों के परिजन खासकर महिलाएं भी खाद के लिए लाइन में लगी हुई नज़र आती हैं। प्रदेश में खाद की कालाबाजारी भी बढ़ गई है। किसान बाजार से महंगी कीमतों पर खाद खरीदने पर मजबूर हैं। यही वजह है कि प्रदेश में जगह जगह पर किसान खाद की किल्लत को लेकर प्रदर्शन कर रहे हैं।

भोपाल की बैरसिया मंडी में शुक्रवार को किसानों ने खाद संकट को लेकर प्रदर्शन किया। किसानों ने खाद संकट की समस्या को समाप्त करने के लिए जमकर नारेबाजी की। मौके पर मौजूद किसानों ने बताया कि वे रोजाना ऐसे ही खाद की आस लिए केंद्रों पर आते हैं, लेकिन अंत में निराशा ही हाथ लगती है। एक महिला ने कहा कि वह पिछले आठ दिनों से लगातार खाद के लिए आ रही हैं। 

खाद के लिए लाइन में लगे किसान की मौत 

मध्य प्रदेश के साथ साथ भाजपा शासित एक अन्य राज्य में भी किसानों को खाद के संकट का सामना करना पड़ रहा है। उत्तर प्रदेश के ललितपुर में खाद के लिए दो दिन से लगे किसान की मौत हो गई। शुक्रवार को भोगीपाल नामक किसान के सीने में अचानक दर्द हुआ और वे वहीं नीचे गिर पड़े। अस्पताल ले जाने पर डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। 

कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने ललितपुर में किसान की मौत को लेकर भाजपा सरकार पर हमला बोला है। सुरजेवाला ने कहा है कि अब डीएपी और खाद भी लोगों के लिए जानलेवा बन गई है। क्या यही हैं अच्छे दिन? सुरजेवाला ने आगे कहा कि कैसे निर्दयी लोगों को सौंप दिया देश और प्रदेश?