बारिश के बीच देर रात तक चलता रहा नर्सिंग छात्राओं का प्रदर्शन, धमकाने पहुंची वाइस प्रिंसिपल

NSUI के साथ देर रात तक हमीदिया नर्सिंग कॉलेज में धरने पर बैठी रहीं नर्सिंग छात्राएं, अंधेरा होने के बाद धमकाने पहुंची वाइस प्रिंसिपल रजनी नायर, डीन ने दिया पद से हटाने का मौखिक आश्वासन

Updated: Jul 19, 2022, 09:13 AM IST

बारिश के बीच देर रात तक चलता रहा नर्सिंग छात्राओं का प्रदर्शन, धमकाने पहुंची वाइस प्रिंसिपल

भोपाल। हमीदिया अस्पताल परिसर स्थित नर्सिंग कॉलेज प्रांगण में सोमवार को वाइस प्रिंसिपल रजनी नायर के खिलाफ NSUI के छात्रों का प्रदर्शन जारी रहा। भारी बारिश के बीच सैंकड़ों की संख्या में नर्सिंग छात्राएं भी इस प्रदर्शन में शामिल रहीं। कॉलेज के डीन के मौखिक आश्वासन के बाद प्रदर्शनकारी रात के करीब पौने बारह बजे धरने से उठे।

हालांकि, इस प्रदर्शन के बावजूद आरोपी वाइस प्रिंसिपल रजनी नायर के तेवर में कोई बदलाव देखने को नहीं मिला। अंधेरा होते ही रजनी नायर छात्राओं को धमकाने पहुंच गईं। छात्राओं ने बताया कि रजनी नायर ने उन्हें देख लेने की धमकी देते हुए कहा कि प्रदर्शन से अविलंब उठ जाओ वरना ये तुम्हारे भविष्य के लिए नुकसानदेह साबित होगा। 

बता दें कि पीड़ित नर्सिंग छात्राओं के समर्थन में मध्य प्रदेश एनएसयूआई खुलकर सामने आ गई है। सोमवार को एनएसयूआई मेडिकल विंग के संयोजक रवि परमार के नेतृत्व में सैंकड़ों छात्राओं ने कॉलेज के एडमिन ब्लॉक में अनिश्चितकालीन धरना शुरू कर दिया था। यह प्रदर्शन करीब 14 घंटे तक जारी रहा। तब देर रात डीन सामने आए और उन्होंने आरोपी वाइस प्रिंसिपल को हटाने का मौखिक आश्वासन दिया।

यह भी पढ़ें: जब राहत देने का वक्त था, तब हम आहत कर रहे हैं, मोदी सरकार के फैसलों पर बरसे भाजपा सांसद वरुण गांधी

इससे पहले नर्सिंग कॉलेज की 131 छात्राओं ने सीएम हेल्पलाइन पर वाइस प्रिंसिपल की शिकायत की थी। उन्होंने आरोप लगाया कि रजनी नायर छात्राओं की बॉडी को लेकर भद्दे कमेंट करती हैं। साथ ही जातिसूचक शब्द बोलकर भी अपमानित करती हैं। शादीशुदा छात्राओं से कहती हैं कि तुमने एक नए स्टूडेंट की सीट खराब कर दी। बावजूद उनके खिलाफ कभी कोई कार्रवाई नहीं हुई। इसके बाद एनएसयूआई के समर्थन से छात्राओं ने अनिश्चितकालीन धरना शुरू किया था।

प्रदर्शन का नेतृत्व कर रहे एनएसयूआई मेडिकल विंग के संयोजक रवि परमार ने बताया कि डीन ने सुबह वाइस प्रिंसिपल को हटाने का औपचारिक ऑर्डर जारी करने का आश्वासन दिया है। यदि कार्रवाई नहीं हुई तो सुबह हम फिर प्रदर्शन करेंगे और इस बार हम सीएम हाउस का घेराव करने पर विचार करेंगे। उन्होंने आरोपी वाइस प्रिंसिपल के व्यवहार को लेकर कहा कि वह सब के सामने आकर धमकी दे रही थीं, इससे साफ है कि वह छात्राओं को अकेले में किस तरह प्रताड़ित करती होंगी। हम मांग करते हैं कि उनके खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की जाए।