शादी के बाद अब डिवोर्स पार्टी का ट्रेंड, भोपाल में तलाकशुदा पति मनाएंगे पत्नी से अलग होने का जश्न

भाई वेलफेयर सोसाइटी के द्वारा विवाह विच्छेद समारोह का आयोजन, अनोखे अंदाज में मनाई जाएगी शादी टूटने का जश्न, 200 पति विसर्जित करेंगे जयमाला और पगड़ी, संस्कृति बचाओ मंच ने जताई आपत्ति

Updated: Sep 11, 2022, 01:15 PM IST

शादी के बाद अब डिवोर्स पार्टी का ट्रेंड, भोपाल में तलाकशुदा पति मनाएंगे पत्नी से अलग होने का जश्न

भोपाल। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में डिवोर्स पार्टी का आयोजन किया गया है। इस कार्यक्रम में तलाकशुदा पति अपने पत्नी से अलग होने का जश्न मनाएंगे। आयोजनकर्ताओं ने बताया कि कार्यक्रम में करीब 200 तलाकशुदा पति शामिल होंगे और वे पगड़ी से लेकर जयमाला और विवाह की अन्य यादों को विसर्जित करेंगे। इधर संस्कृति बचाओ मंच ने इस आयोजन पर आपत्ति जताई है।

डिवोर्स पार्टी का आयोजन "भाई वेलफेयर सोसाइटी" के द्वारा किया गया है। कार्यक्रम का नाम "विवाह विच्छेद" समारोह रखा गया है। संस्था ने पत्नियों से अलग होने, पुरानी जिंदगी को तिलांजलि देकर नई जिंदगी की शुरुआत करने वाले पतियों के सम्मान में यह कार्यक्रम रखा है। सोशल मीडिया पर इस आयोजन का निमंत्रण पत्र तेजी से वायरल हो रहा है।

यह भी पढ़ें: दफ्तर दरबारी: आईएएस ने बनाई ज्‍योतिरादित्‍य सिंधिया के प्रिय मंत्री से दूरी, अंधेरे में हैं भाई साहब

यह कार्यक्रम 18 सितंबर को सुबह 11 बजे रायसेन रोड के फ्लोरा फार्म एंड रिसोर्ट में होगा। समारोह में जयमाला विसर्जन, सद्बुद्धि शुद्धिकरण यज्ञ, बारात निर्गमन, पुरुष संगीत, मानव सम्मान में कार्य करने हेतु सात कदम और सात प्रतिज्ञा, मुख्य अतिथि द्वारा विवाह विच्छेद की डिग्री वितरण आदि कार्यक्रम होंगे। इस दौरान पति विवाह की यादगार चीजें जैसे पगड़ी, जयमाला, फेरे की फोटो इन सभी का विसर्जन करेंगे। ताकि वह एक बार फिर से नए जीवन की शुरूआत कर सकें।

भाई वेलफेयर सोसायटी के अध्यक्ष जकी अहमद ने बताया कि इस पार्टी में 200 ऐसे लोग शामिल होंगे, जिनका कड़े संघर्षों के बाद तलाक हुआ है। जकी के मुताबिक यह पार्टी किसी को ठेस पहुंचाने के मकसद से नहीं कर रहे हैं। संस्था का सिर्फ इतना ही उद्देश्य है कि पुरानी जिंदगी को तिलांजलि देकर नई जिंदगी की शुरुआत की जाए। जकी का कहना है कि हर पुरुष अत्याचारी नहीं होता, इसी तरह हर स्त्री बेचारी नहीं होती।

यह भी पढ़ें: कांग्रेस अध्यक्ष चुनाव: पारदर्शिता की चिंता करने वाले MPs को मिस्त्री का जवाब, आकर सूची देख सकते हैं

जकी अहमद का कहना कि हम ऐसे पतियों के लिए यह कार्यक्रम कर रहे हैं जो पत्नी के अत्याचारों से दुखी होकर हताश-निराश हैं। कई तो टूटी शादियों में लड़की पक्ष से मिली प्रताड़ना, कानूनी लड़ाई और आर्थिक मोर्चे से टूटकर खुदकुशी तक कर लेते हैं। ऐसे लोगों को संबल देने के लिए, उन्हें सम्मानित करने के लिए हमने यह आयोजन करने का फैसला किया है। लोग शादी का जश्न मनाते हैं, लेकिन तलाक का उत्सव उससे ज्यादा जरूरी है। 

उधर संस्कृति बचाओ मंच ने भाई वेलफेयर सोसायटी द्वारा आयोजित विवाह विच्छेद समारोह पर आपत्ति जताई है। संस्कृति बचाओ मंच के अध्यक्ष चंद्रशेखर तिवारी ने चेतावनी देते हुए कहा कि अगर यह आयोजन किया जाएगा, तो इसके खिलाफ प्रदर्शन करेंगे और गृहमंत्री को ज्ञापन सौंपेंगे। तिवारी ने कहा कि भारतीय संस्कृति के खिलाफ किसी भी प्रकार का आघात बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। आयोजकों को हमने साफ कह दिया है कि वे इस तरह के आयोजन न करें। बावजूद वह यदि नहीं माने तो उनके खिलाफ आपराधिक मुकदमा दर्ज किया जाएगा।