पेशे से टीचर और काम घूसखोरी, रोजगार सहायिका अपने शिक्षक पति के साथ 50 हजार की रिश्वत लेते धराई

भोपाल से लगे दिल्लौद ग्राम पंचायत की रोजगार सहायिका ने ठेकेदार से रोड निर्माण का बिल पास करने के लिए मांगे 80 हजार, पहली किस्त में ले चुकी थी 30 हजार, दूसरी किस्त में 50 हजार लेते लोकायुक्त ने रंगेहाथों पकड़ा, शिक्षक पति के साथ मिलकर लेती थी घूस

Updated: Jul 09, 2021, 12:04 PM IST

पेशे से टीचर और काम घूसखोरी, रोजगार सहायिका अपने शिक्षक पति के साथ 50 हजार की रिश्वत लेते धराई
Photo Courtesy: prachand

भोपाल। लोकायुक्त पुलिस ने शहर से लगे दिल्लौद ग्राम पंचायत में घूसखोरी के मामले में दो लोगों को गिरफ्तार किया है। रिश्वत लेने का आरोप स्थानीय रोजगार सहायिका नीतू भार्गव और उसके शिक्षक पति विनय भार्गव पर लगा है। आरोपी रोजगार सहायिका ने सड़क निर्माण का बिल पास करने की एवज में 80 हजार रुपए की मांग की थी। इसमें मनरेगा मजदूरों की मजदूरी और मशीनों का बिल भी शामिल था। जिसकी पहली किस्त के तौर पर वह 30 हजार रुपए अपने पति के माध्यम से ले चुकी थी, वहीं दूसरी किस्त के 50 हजार लेने के लिए फरियादी ठेकेदार पर दबाव बना रही थी। जिसके बाद 50 हजार देना तय हुआ। आरोपी रोजगार सहायिका अपने पति के साथ मिलकर घूस लेने का काम करती थी।

फरियादी वैभव ने तंग आकर गुरुवार को मामले की शिकायत भोपाल लोकायुक्त से कर दी। जिसके बाद भोपाल लोकायुक्त ने मामले की पड़ताल की और प्लान बनाकर आरोपियों को करौंद के पास एक डेयरी के सामने बुलाया, और पैसे दिए जैसे ही फरियादी ने शिक्षक के हाथ में पैसे दिए लोकायुक्त ने उसे रंगेहाथों गिरफ्तार कर लिया। इस दौरान रोजगार सहायिका भी वहीं मौजूद थी लोकायुक्त ने दोनों को गिरफ्तार कर लिया है। आगे की कार्रवाई जारी है।

आरोपी बार बार अपनी सफाई देने में जुटे रहे लेकिन लोकायुक्त ने दोनों को गिरफ्तार कर लिया है। दोनों के खिलाफ भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम की धाराओं में मामला दर्ज किया गया है। लोकायुक्त पुलिस दोनों से पूछताछ में जुटी है।