चुनाव से पहले किसान निधि देनेवाली सरकार चुनाव बीतते ही वसूली नोटिस भेजेगी: कमल नाथ

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आज मुख्यमंत्री किसान कल्याण योजना के माध्यम से 77 लाख किसानों के खातों में दो हजार रुपए की राशि ट्रांसफर की है, कमल नाथ ने इसे सीएम का चुनावी हथकंडा करार दिया है

Updated: Oct 23, 2021, 03:36 PM IST

चुनाव से पहले किसान निधि देनेवाली सरकार चुनाव बीतते ही वसूली नोटिस भेजेगी: कमल नाथ

भोपाल। मुख्यमंत्री किसान कल्याण योजना के जरिए किसानों के खातों में राशि ट्रांसफर किए जाने को पीसीसी चीफ कमल नाथ ने चुनावी हथकंडा करार दिया है। कमल नाथ ने सीएम शिवराज पर हमला बोलते हुए कहा है कि चुनाव आते ही शिवराज सरकार किसानों के खातों में दो हजार रुपए की राशि डालकर इसे किसानों का सम्मान करार देती है, लेकिन जैसे ही चुनाव समाप्त होते हैं वैसे ही उन किसानों को अपात्र बताकर उनसे वसूली शुरू कर देती है। 

कमल नाथ ने सीएम शिवराज पर निशाना साधते हुए कहा है कि अगर वास्तव में किसानों का सम्मान करना है तो उनके कर्ज माफ करो, उन्हें कर्ज के दलदल से निकालो, खेती को लाभ का धंधा बनाओ। कमल नाथ ने पिछले वर्ष 28 सीटों पर हुए उपचुनावों का उदाहरण देते हुए कहा कि उस दौरान भी शिवराज सरकार ने किसानों के खातों में सम्मान निधि की किश्त डाली थी और चुनाव समाप्त होते ही प्रदेश के लाखों किसानों को अपात्र बताकर वसूली के नोटिस थमा दिए। 

कमल नाथ ने कहा कि अधिकारी रोज ऐसे किसानों को धमका रहे हैं। लाचार किसान भी कर्ज़ लेकर, जेवर गिरवी रखकर यह राशि वापस लौटा रहे हैं। अब शिवराज सरकार एक बार फिर कुछ वैसा ही कर रही है। पता नहीं चुनाव खत्म होने के बाद कितने किसानों को वापस वसूली के नोटिस थमा दिए जाएंगे। कमल नाथ ने कहा कि वास्तव में अब यह किसान सम्मान निधि नहीं अपमान निधि बन चुकी है। 

दरअसल शनिवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने केंद्र की किसान सम्मान निधि योजना की तर्ज पर प्रदेश में संचालित मुख्यमंत्री किसान कल्याण योजना के माध्यम से प्रदेश के 77 लाख किसानों के खातों में दो हजार रुपए की किश्त ट्रांसफर की। प्रदेश में अगले हफ्ते तीन विधानसभा सीटों और एक लोकसभा सीट पर चुनाव होने हैं। ऐसे में सीएम द्वारा वितरित की गई राशि को चुनावी हथकंडा माना जा रहा है।