क्या स्टेशन का नाम बदलने से होगा आदिवासियों का सम्मान, शिवराज सरकार पर कमल नाथ ने साधा निशाना

कमल नाथ ने शिवराज सरकार की नीतियों पर खड़े किए सवाल, कहा, 18 साल तक सत्ता में रहने वाली शिवराज सरकार ने आदिवासियों का कोई भला नहीं किया

Publish: Nov 16, 2021, 11:08 AM IST

क्या स्टेशन का नाम बदलने से होगा आदिवासियों का सम्मान, शिवराज सरकार पर कमल नाथ ने साधा निशाना

भोपाल। पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ ने सोमवार को भोपाल में आदिवासियों के नाम पर आयोजित कार्यक्रम को भाजपा का दिखावा करार दिया है। कमल नाथ ने हबीबगंज स्टेशन का नाम बदले जाने को लेकर शिवराज सरकार पर निशाना साधा है। कमल नाथ ने शिवराज सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि क्या स्टेशन का नाम बदल देने से आदिवासियों का सम्मान होता है? 

पीसीसी चीफ ने जबलपुर में कांग्रेस के आदिवासी सम्मेलन को संबोधित करने के बाद पत्रकारों से बातचीत के दौरान कहा कि शिवराज सरकार लंबे अरसे तक प्रदेश में सत्ता में रही। लेकिन 18 साल गुजर जाने के बाद उन्हें आदिवासियों की याद आई। कमल नाथ ने कह यह बात बेहद चिंताजनक है कि आदिवासी आज भी पिछड़े हुए हैं।

कमल नाथ ने भोपाल में आयोजित भाजपा के कार्यक्रम को ठेकेदारों द्वारा आयोजित कार्यक्रम करार दिया। पीसीसी चीफ ने कहा कि इस कार्यक्रम में प्रशासनिक ठेकेदारों ने कुर्सियां और टेंट लगाने की व्यवस्था की। इन्होंने ही भीड़ की व्यवस्था की।कमल नाथ ने कहा कि प्रदेश में उनकी सरकार आने के बाद आदिवासियों को सबसे अधिक महत्व और प्राथमिकता दी जाएगी। आदिवासियों और उनके अधिकारों का संरक्षण की जाएगा। 

यह भी पढ़ें : PM मोदी के माइक पकड़ते ही लौटने लगे आदिवासी युवा, खाली कुर्सियों को संबोधित करते रहे प्रधानमंत्री

सोमवार को भोपाल के जंबूरी मैदान में जनजातीय सम्मेलन का आयोजन किया गया था। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस कार्यक्रम में शिरकत की थी। कार्यक्रम से पहले सरकारी खर्चे पर प्रदेश भर से आदिवासियों को लाया गया था। इसके लिए शिवराज सरकार ने तेरह करोड़ रुपए आदिवासी उपयोजना से खर्च किए थे। प्रधानमंत्री ने जैसे ही कार्यक्रम को संबोधित करना शुरू किया वैसे ही कार्यक्रम में शिरकत करने के लिए लाए गए लोग कुर्सियां छोड़ वहां से जाने लगे। इस पर कांग्रेस ने शिवराज सरकार की चुटकी भी ली थी और कार्यक्रम को सुपरफ्लॉप करार दिया था।