हेलीकॉप्टर क्रैश: अकेले जीवित बचे कैप्टन वरुण के लिए देशभर में दुआएं, भोपाल में रहता है परिवार

चार महीने पहले ही वरुण को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के हाथों मिला है शौर्य चक्र, मिलिट्री अस्पताल में लड़ रहे जिंदगी और मौत से जंग, पिता बोले- बहादुर है मेरा बेटा

Updated: Dec 09, 2021, 11:10 AM IST

हेलीकॉप्टर क्रैश: अकेले जीवित बचे कैप्टन वरुण के लिए देशभर में दुआएं, भोपाल में रहता है परिवार

भोपाल। तमिलनाडु में हुए भीषण हेलीकॉप्टर हादसे में अकेले कैप्टन वरुण सिंह जीवित बचे हैं। हालांकि, उनकी स्थिति गंभीर है और वे मिलिट्री अस्पताल में जिंदगी और मौत से जूझ रहे हैं। देशभर में उनकी सलामती की दुआएं की जा रही है। कैप्टन सिंह मूलतः उत्तर प्रदेश के देवरिया जिले के रहने वाले हैं, हालांकि उनके पिता राजधानी भोपाल में बस गए हैं।

वरुण के पिता थलसेना से रिटायर्ड कर्नल हैं। वे भोपाल की कोर 24 से रिटायर होने के बाद झीलों के शहर में ही बस गए। वह भोपाल की एयरपोर्ट स्थित सनसिटी कॉलोनी के इनरकोर्ट अपार्टमेंट की 5वीं मंजिल पर रहते हैं। सिंह के पड़ोसी लेफ्टिनेंट कर्नल ईशान बताते हैं कि दो सप्ताह पहले ही वरुण भोपाल आए थे और वे 10 दिन यहीं रुके थे। खास बात ये है कि वरुण का परिवार तीनों सेनाओं से जुड़ा हुआ है। पिता थलसेना से रिटायर्ड कर्नल, खुद वरुण वायुसेना कैप्टन और उनके छोटे भाई तनुज सिंह इंडियन नेवी में लेफ्टिनेंट कमांडर हैं।

यह भी पढ़ें: रक्षा प्रमुख के निधन का जिम्मेदार MI-17 V5 मिलिट्री का सबसे आधुनिक हेलीकॉप्टर कैसे हुआ फेल

कैप्टन वरुण सिंह के अदम्य साहस और सूझबूझ को देखते हुए इसी साल स्वतंत्रता दिवस पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने उन्हें शौर्य चक्र से सम्मानित किया था। उन्हें यह पुरस्कार फ्लाइंग कंट्रोल सिस्टम खराब होने के बावजूद 10 हजार फीट की ऊंचाई से एयरक्राफ्ट की सफल लैंडिंग कराने पर दिया गया था। इस घटना में वरुण ने आपदा के समय धैर्य और साहस नहीं खोया था और आबादी से दूर ले जाकर तेजस विमान की सफल लैंडिंग कराई थी। उनका नाम एयर फोर्स के सबसे बेहतरीन पायलटों की सूची में शामिल है। 

यह भी पढ़ें: अंतराष्ट्रीय स्तर पर 7 हजार लोगों की जान बचा चुके हैं CDS बिपिन रावत, 2015 में भी हुए थे हेलिकॉप्टर हादसे का शिकार

वरुण को लेकर मीडिया से बातचीत के दौरान केपी सिंह कहते हैं कि मेरा बेटा बहादुर है और वह हर परिस्थितियों से लड़ना जानता है। वरुण साल 2004 में एनडीए के लिए सेलेक्ट हुए थे। उनके परिवार में पत्नी और एक बेटा-बेटी भी हैं। बताया जा रहा है कि वेलिंगटन के मिलिट्री अस्पताल में चेन्नई से स्पेशलिस्ट डॉक्टर को बुलाकर वरुण का सर्जरी किया गया है। सर्जरी से पहले वरुण होश में थे। देश के गृहमंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह समेत तमाम दिग्गजों ने वरुण के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना की है।