जनता ने निकाली हेकड़ी: पंचायत चुनाव में बुरी तरह हारे विधानसभा अध्यक्ष के सुपुत्र, कांग्रेस बोली- उल्टी गिनती शुरू

टोल मैनेजर को नॉनस्टॉप गालियां देकर सुर्खियों में आए थे विधानसभा अध्यक्ष गिरीश गौतम के बेटे राहुल गौतम, पंचायत चुनाव में जनता ने निकाली हेकड़ी, चचेरे भाई ने ही हराया, बेटे के लिए गिरीश गौतम ने भी किया था धुआंधार प्रचार

Updated: Jun 26, 2022, 01:31 PM IST

जनता ने निकाली हेकड़ी: पंचायत चुनाव में बुरी तरह हारे विधानसभा अध्यक्ष के सुपुत्र, कांग्रेस बोली- उल्टी गिनती शुरू

रीवा। मध्य प्रदेश विधानसभा अध्यक्ष गिरीश गौतम के सुपुत्र राहुल गौतम जिला पंचायत का चुनाव हार गए हैं। उनके चचेरे भाई पद्मेश गौतम ने ही उन्हें इस चुनाव में बुरी तरह परास्त किया है। माना जा रहा है कि ग्रामीणों पर रौब झाड़ना विधानसभा अध्यक्ष को भारी पड़ गया। दरअसल, बेटे के लिए प्रचार करते वक्त गिरीश गौतम मामूली बात को लेकर ग्रामीणों पर भड़क गए थे। इसका खामियाजा उनके सुपुत्र को चुनाव में भुगतना पड़ा।

जानकारी के मुताबिक गिरीश गौतम के भतीजे पद्मेश गौतम ने ही उनके बेटे राहुल गौतम को 1400 वोटों से हराया है। दोनों रीवा जिला पंचायत के वार्ड क्रमांक 27 से चुनाव लड़ रहे थे। पद्मेश कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ता हैं। कांग्रेस इस मामले पर तंज भी कस रही है। कांग्रेस विधायक पीसी शर्मा ने ट्वीट कर लिखा कि बीजेपी और सीएम शिवराज की उल्टी गिनती शुरू हो गई है।

स्थानीय लोगों ने इस हार के पीछे विधानसभा अध्यक्ष गिरीश गौतम की लगातार गिरती साख और जनाधार को बताया है। हाल ही में वे अपने बेटे राहुल गौतम के लिए वोट मांगने रीवा जिला पंचायत के वार्ड क्रमांक 27 हटवा कोरियान गांव पहुंचे थे। यहां ग्रामीणों ने जब उन्हें अपनी समस्या बताई तो वे भड़क गए। उन्होंने इस दौरान यहां तक कह दिया की मुझे इस गांव का एक भी वोट नहीं चाहिए। यह वीडियो जब वायरल हुआ तो अन्य गांव के लोगों ने भी उनका बहिष्कार करने का निर्णय लिया, जिसका नतीजा सामने है।

यह भी पढ़ें: मत देना वोट, मुझे इस गांव से एक भी वोट नहीं चाहिए, ग्रामीणों ने बताई समस्या तो भड़के विधानसभा अध्यक्ष

बता दें कि गिरीश गौतम के पुत्र राहुल गौतम अपने कारनामों को लेकर सुर्खियों में रहे हैं। पिछले साल ही उनका एक ऑडियो टेप वायरल हो गया था। इसमें वे एक टोल मैनेजर को नॉनस्टॉप गालियां दे रहे थे। कारण बस इतना था कि चोरहटा टोल पर उनकी गाड़ी रोकी गई थी। यह बात पता चलते ही वे भड़क गए और टोल मैनेजर को फोन पर गाली गलौज करने लगे।