MPPSC परिक्षा में आयु सीमा में तीन साल की छूट, कोरोना काल में आयु सीमा पार कर गए छात्रों को बड़ी राहत

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आगामी PSC परीक्षा में आयु सीमा में 3 साल की अतिरिक्त छूट देने का ऐलान किया है, यह लाभ सिर्फ एक बार दिया जाएगा

Updated: Sep 19, 2022, 01:21 PM IST

MPPSC परिक्षा में आयु सीमा में तीन साल की छूट, कोरोना काल में आयु सीमा पार कर गए छात्रों को बड़ी राहत

भोपाल। मध्य प्रदेश लोक सेवा आयोग (MPPSC) के अभ्यर्थियों के लिए बड़ी खबर सामने आई है। सीएम शिवराज ने PSC की परिक्षा में इस बार आयुसीमा में तीन साल की छूट देने का ऐलान किया है। दरअसल, कोविड-19 की वजह से दो साल तक परीक्षाओं का आयोजन नहीं हो सका था। इस वजह से कई छात्र अधिकतम आयु को पार कर गए। ऐसे छात्रों को राहत देने के लिए राज्य सरकार ने यह फैसला लिया है।

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इस संबंध में बयान जारी कर कहा कि, 'कोविड के कारण पिछले वर्षों में पीएससी की की परीक्षा स्थगित हो गई थी और परीक्षा में बैठने वाले बच्चे ओवरएज हो गए थे। उम्मीदवारों ने आग्रह किया था परीक्षा नहीं होने के कारण जो बच्चे ओवरएज हुए हैं, उनके साथ अन्याय हो रहा है। इसलिए एक बार के लिए एमपीपीएससी में परीक्षा देने की जो अधिकतम आयु सीमा में है उसको तीन साल के लिए बढ़ाया जाए ताकि बच्चों के साथ न्याय हो।'

सीएम चौहान ने आगे कहा कि, 'बच्चों का पक्ष मुझे पूरी तरह से न्यापूर्ण लगता है। इसलिए राज्य सरकार ने यह फैसला लिया है कि एमपीपीएससी की अधिकतम आयु सीमा में एक बार के लिए 3 साल की वृद्धि की जाएगी। जिससे बच्चें को न्याय मिल सके।'

यह भी पढ़ें: MP: पीएम आवास के लिए विधवा महिला का संघर्ष, चार साल से काट रही दफ्तरों का चक्कर, नहीं मिला घर

बता दें कि कोरोना काल के दौरान कई परीक्षाएं स्थगित कर दी गई थी। इसके चलते PSC के कई उम्मीदवार ओवरएज हो गए थे और वे अब एग्जाम देने से वंचित हो गए थे। उन्हें परिक्षा में बैठने का मौका नहीं मिल सका इसलिए वे लगातार विरोध प्रदर्शन भी कर रहे थे। वे आयु सीमा में रियायत बरतने को लेकर मांग कर रहे थे। छात्रों के डेलिगेशन से मुलाकात के बाद सीएम चौहान ने उनकी मांगों को स्वीकार कर लिया है।