PM मोदी के जन्मदिन पर मृत आत्मा ने भी की वैक्सीन सेवा, टीका लेकर प्रधानमंत्री को दिया बर्थड़े गिफ्ट

विश्व रिकॉर्ड बनाने के लिए स्वास्थ्य विभाग का अजीबोगरीब कारनामा, मध्य प्रदेश के आगर मालवा में मृत महिला को भी लगाया वैक्सीन, आश्चर्यचकित हुए परिजन

Updated: Sep 19, 2021, 03:56 PM IST

PM मोदी के जन्मदिन पर मृत आत्मा ने भी की वैक्सीन सेवा, टीका लेकर प्रधानमंत्री को दिया बर्थड़े गिफ्ट
Photo Courtesy: Aajtak

आगर-मालवा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्मदिन पर देशवासियों ने 2.50 करोड़ से अधिक टीके लगाकर विश्व रिकॉर्ड स्थापित किया। देशवासियों की ओर से प्रधानमंत्री के लिए इसे बर्थडे गिफ्ट माना गया। खास बात ये है कि पीएम मोदी को सिर्फ जीवित लोगों ने ही नहीं बल्कि मृत आत्माओं की ओर से भी उपहार मिला है। आगर-मालवा में एक मृत महिला ने वैक्सीन सेवा में अपना योगदान देते हुए दूसरा डोज लिया है।

मामला मध्य प्रदेश के छावनी नाका वार्ड नंबर 16 का है। यहां भगवानलाल शर्मा की पत्नी विद्यादेवी ने 8 मार्च को कोरोना का पहला डोज लिया था। 65 वर्षीय विद्या देवी अप्रैल में कोरोना संक्रमित हो गईं थी। उनके बेटे आशुतोष शर्मा ने बताया कि उपचार के लिए उन्हें शासकीय अस्पताल में भर्ती कराया गया था, लेकिन 1 मई को उनकी मौत हो गई। आशुतोष के मुताबिक उन्होंने मां का डेथ सर्टिफिकेट भी बनवा लिया है। 

हैरानी की बात ये है कि बीते 17 सितंबर को पीएम मोदी के बर्थडे के मौके पर देशवासी वैक्सीन सेवा में सहयोग दे रहे थे, तब उनकी मां को भी टीके का दूसरा डोज लगाया गया। आशुतोष के मोबाइल पर स्वास्थ्य विभाग ने मैसेज भेजकर जब यह जानकारी दी तो वे चौंक गए। उन्होंने जब मैसेज के लिंक को खोला तो दूसरे डोज लेने का सर्टिफिकेट भी डाऊनलोड हो गया। अब आशुतोष समझ नहीं पा रहे हैं कि ये कैसे संभव है।

यह भी पढ़ें: कल रात एक पॉलिटिकल पार्टी को बुखार क्यों आया, PM मोदी ने डॉक्टर से पूछा अजीबोगरीब साइड इफेक्ट का कारण

बिना वैक्सीनेशन सेंटर गए लगा दूसरा डोज

छावनी इलाके की एक अन्य महिला पिंकी वर्मा ने बताया कि उन्हें तो वैक्सीनेशन सेंटर गए बिना ही दूसरा डोज लग गया। 32 वर्षीय पिंकी के मुताबिक उन्होंने 8 जून को कोविशील्ड का पहला टीका लगाया था। दूसरा टीका उन्हें 7 सितंबर को लेना था लेकिन बीमार होने की वजह से वो टीकाकरण केंद्र नहीं जा सकीं। पीएम मोदी के जन्मदिन वाले दिन स्वास्थ्य विभाग ने उन्हें भी मैसेज किया कि उन्हें 17 सितंबर को दूसरी डोज लगाई गई है। पिंकी भी हैरान हैं कि बिना वैक्सीनेशन सेंटर गए उन्हें टीका कैसे लगा गया। 

आशुतोष और पिंकी को आशंका है कि रिकॉर्ड कायम करने के लिए स्वास्थ्य विभाग ने फर्जीवाड़ा किया है। ये कैसे संभव है, पूछे जाने पर स्थानीय कांग्रेस विधायक विपिन वानखेड़े ने कहा कि आगर-मालवा में कुछ भी संभव है। आप जो चीज कल्पना तक नहीं कर सकते हैं, वो चीज यहां के अधिकारी कर दिखाते हैं। फर्जीवाड़े में सीएम शिवराज के अधिकारियों का कोई मुकाबला नहीं कर सकता। विपिन के मुताबिक ये तो सिर्फ दो मामले हैं, यदि ढंग से जांच की जाए तो ऐसे हजारों केस सामने आएंगे। मुख्यमंत्री ने फर्जीवाड़े से ही पीएम मोदी को बर्थडे गिफ्ट दिया है।

बहरहाल ये मामला सामने आने के बाद केंद्रीय स्वास्थ्य विभाग और राज्य सरकार द्वारा चलाए जा रहे टीकाकरण अभियान पर गंभीर सवाल खड़े हो रहे हैं।