दैनिक भास्कर ग्रुप पर इनकम टैक्स का छापा, देशभर के कई कार्यालयों पर पहुंची टीम

दैनिक भास्कर के भोपाल, इंदौर, जयपुर, अहमदाबाद और महाराष्ट्र के कुछ कार्यालयों और घर पर रेड, इनकम टैक्स टीम ने शुरू की जांच, भारत समाचार के ब्रजेश्वर मिश्रा के घर और दफ़्तर पर भी छापे

Updated: Jul 22, 2021, 11:38 AM IST

दैनिक भास्कर ग्रुप पर इनकम टैक्स का छापा, देशभर के कई कार्यालयों पर पहुंची टीम
Photo Courtesy: dainik bhaskar

नई दिल्ली। देश के प्रमुख मीडिया संस्थान दैनिक भास्कर ग्रुप पर इनकम टैक्स विभाग की रेड चल रही है। देशभर में भास्कर के कई कार्यालयों पर  विभाग ने एकसाथ छापा मारा है। साथ ही आयकर विभाग की टीम भास्कर के मालिक के घर भी पहुंची है। रिपोर्ट्स के मुताबिक आयकर विभाग की इन्वेस्टिगेशन टीम भोपाल के प्रेस कॉम्प्लेक्स स्थित मुख्यालय सहित करीब आधा दर्जन ठिकानों पर छापे डाल रही है। भास्कर के इंदौर, नोएडा और जयपुर कार्यालय में भी टीमें जांच कर रही हैं। बताया जा रहा है कि भास्कर समूह पर छापेमारी के लिए एक कार और एक बस भरकर टीम आयी है।

बताया जा रहा है कि यह पूरा सर्च ऑपरेशन दिल्ली और मुंबई की टीमों द्वारा किया जा रहा है। मौके पर आयकर विभाग के अधिकारियों के अलावा स्थानीय पुलिस भी हैं। दैनिक भास्कर अखबार ने कोरोना काल में केंद्र की मोदी सरकार को लेकर काफी कड़ी आलोचनात्मक खबरें कीं। जानकार इसे उसकी प्रतिक्रिया के रूप में देख रहे हैं।

इस छापेमारी को विपक्ष ने सच की आवाज दबाने की कार्रवाई कहा है। खबर सामने आने के बाद दिग्विजय सिंह ने ट्वीट कर कहा कि मुझे विश्वास है कि अग्रवाल बंधु डरेंगे नहीं। एक अन्य ट्वीट में उन्होंने इसे गर्वनेंस का गुजरात मॉडल करार दिया है।

 मध्य प्रदेश में कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ ने भी इसे लोकतंत्र के चौथे स्तंभ पर प्रहार करार दिया है। उन्होंने कहा है कि ये सच को निर्भीकता से उजागर करने की सज़ा है।

कांग्रेस के माइनॉरिटी सेल के चेयरमैन ने लिखा है कि न सिर्फ भास्कर बल्कि भारत समाचार के एंकर ब्रजेश मिश्रा के यहां भी छापेमारी की कार्रवाई चल रही है। ब्रजेश मिश्रा ने भी इस दौर में बेहद निडरता से अपनी लेखनी को धारदार बनाए रखा। वो तमाम खबरें जिन्हें राषट्रीय मीडिया ने उपेक्षा की, उन खबरों को सामने लाने में ब्रजेश का योगदान रहा।

मीडिया समूह भास्कर पर हुई छापेमारी ने तमाम पत्रकारों को भी चौंकाया है। सोनिया सिंह और सुहासिनी हैदर जैसी तमाम पत्रकारों ने ट्वीटकर लिखा है कि भास्कर ने कोविड की दूसरी लहर में सच को उजागर करने के लिए बेदह सराहनीय कार्य किया। ठीक उसके बाद हुई आयकर की यह रेड हैरान करनेवाली है।

दैनिक भास्कर लगभग एक दर्जन शहरों से निकलनेवाला देश के सबसे बड़े मीडिया समूहों में से एक है। पूरे देश में इसके 60 संस्करण विभिन्न भाषाओं से निकलते हैं। जिसका हेडक्वाटर मध्य प्रदेश में है।