रामदेव के अरेस्ट वाले बयान पर महुआ मोइत्रा का तंज, बोलीं- ‘भाई-बाप’ तो विपक्ष को गिरफ्तार करने में हैं व्यस्त

मोइत्रा ने सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि स्वामी रामदेव को गिरफ्तार तो किसी का बाप भी नहीं कर सकता। भाई और बाप तो विपक्ष को गिरफ्तार करने में व्यस्त हैं।

Updated: May 27, 2021, 12:19 PM IST

रामदेव के अरेस्ट वाले बयान पर महुआ मोइत्रा का तंज, बोलीं- ‘भाई-बाप’ तो विपक्ष को गिरफ्तार करने में हैं व्यस्त
Photo courtesy: amarujala

दिल्ली। योगगुरु बाबा रामदेव इन दिनों अपने विवादित बयानों की वजह से एक बार सुर्खियों पर हैं।  बाबा रामदेव का सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें वे कहते नजर आते हैं कि अरेस्ट तो उनका बाप भी नहीं कर सकता। बाबा के इस बयान पर तृणमूल कांग्रेस की नेता महुआ मोइत्रा ने सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि स्वामी रामदेव को गिरफ्तार तो किसी का बाप भी नहीं कर सकता। भाई और बाप तो विपक्ष को गिरफ्तार करने में व्यस्त हैं।

टीएमसी नेता महुआ मोइत्रा ने बाबा रामदेव के बयान पर सरकार को घेरते हुए ट्वीट कर कहा कि "बाबा रामदेव को किसी का बाप भी गिरफ्तार नहीं कर सकता है क्योंकि भाई और बाप तो विपक्ष को गिरफ्तार करने में व्यस्त हैं।" हालांकि, सांसद महुआ मोइत्रा ने अपने ट्वीट में सरकार का जिक्र नहीं किया, लेकिन उनके ट्वीट को हाल ही में नारदा केस में हुई टीएमसी नेताओं की गिरफ्तारी से जोड़कर देखा जा रहा है।

 

 


 हालही में एलोपैथी को स्टूपिड साइंस बताने के बाद रामदेव को इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) की तरफ से मानहानि का नोटिस भेजा गया है। नोटिस भेजे जाने की खबर आने के थोड़ी देर बाद ही सोशल मीडिया पर 'अरेस्ट बाबा रामदेव' ट्विटर पर ट्रेंड करने लगा। इसके बाद एक और बाबा का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ। इस वीडियो में रामदेव कहते नजर आ रहे हैं कि किसी के बाप में दम नहीं जो बाबा रामदेव को गिरफ्तार कर सके। रामदेव कहते हैं कि उन्हें बदनाम करने के लिए कई सोशल मीडिया में कई तरह के ट्रेंड चलाए जा रहे हैं, लेकिन इस तरह की किसी घटना से उन्हें कोई प्रभाव नही पड़ता। 

 


ज्ञात हो कि आईएमए ने पतंजलि योगपीठ के प्रमुख स्वामी रामदेव को मानहानि का नोटिस भेजा है। इस नोटिस में कहा गया है कि बाबा रामदेव अपने बयान के लिए 15 दिनों के भीतर माफी मांगें, नहीं तो आईएमए उनके खिलाफ 1000 करोड़ रुपये का दावा ठोकेगा। डॉक्टरों के संगठन ने मांग की है कि रामदेव को इस बयान के खिलाफ लिखित में माफी मांगनी होगी, अन्यथा कानूनी रूप से ये दावा ठोका जाएगा।

बता दें बाबा रामदेव कुछ दिन पहले एलोपैथी को बकबास विज्ञान बताया था। उन्होंने कहा अगर एलोपैथी इतना ही अच्छा होता तो डॉक्टर को बीमार नही होना चाहिए। इस बयान के बाद डॉक्टरों ने विरोध जताया, डॉक्टरों के विरोध के बाद केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने रामदेव के बयान को दुर्भाग्यपूर्ण बताया था।