मोतीलाल वोरा के निधन पर शोक में डूबी कांग्रेस, नेताओं ने लिखे भावुक संदेश

प्रियंका गांधी ने कहा 92 साल की उम्र में भी वोरा हर मीटिंग में मौजूद रहते थे, वे विचारधारा के प्रति निष्ठा, धैर्य और समर्पण के प्रतीक थे, पीएम मोदी ने भी जताया दुख

Updated: Dec 21, 2020, 10:36 PM IST

मोतीलाल वोरा के निधन पर शोक में डूबी कांग्रेस, नेताओं ने लिखे भावुक संदेश
Photo Courtesy : Twitter

नई दिल्ली। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मोतीलाल वोरा का 93 साल की उम्र में निधन हो गया है। खराब सेहत की वजह से मोतीलाल वोरा को कल रात फोर्टिस एस्कॉर्ट हॉस्पिटल में भर्ती करवाया गया था। वोरा के निधन से कांग्रेस पार्टी शोक में डूब गई है। अहमद पटेल के निधन के कुछ ही समय बाद कांग्रेस के एक और दिग्गज नेता का चला जाना पार्टी के लिए बड़ा नुकसान है। कांग्रेस नेता राहुल गांधी, प्रियंका गांधी, राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत, छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल समेत कई दिग्गजों ने उनके निधन पर शोक जताया है।

राहुल गांधी ने ट्वीट किया, 'वोरा जी एक सच्चे कांग्रेसी और शानदार इंसान थे। हमें उनकी कमी बेहद खलेगी। मेरी संवेदनाएं उनके परिवार और दोस्तों के साथ हैं।'

वोरा ने निधन पर प्रधानमंत्री मोदी ने भी शोक जताया है। पीएम ने ट्वीट किया, 'श्री मोतीलाल वोरा जी उन वरिष्ठतम कांग्रेसी नेताओं में से थे, जिनके पास अपने राजनीतिक करियर में व्यापक प्रशासनिक और संगठनात्मक अनुभव था। उनके निधन से दुखी हूं। उनके परिवार और शुभचिंतकों के प्रति संवेदना। ॐ शांति।

 

 

92 साल की उम्र में भी वोरा हर मीटिंग में मौजूद रहते थे - प्रियंका गांधी

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने वोरा को विचारधारा के प्रति निष्ठा, समर्पण और धैर्य के प्रतीक बताया है। उन्होंने ट्वीट किया, 'श्री मोतीलाल वोरा जी के निधन से कांग्रेस पार्टी के हर एक नेता, हर एक कार्यकर्ता को व्यक्तिगत तौर पर दुःख महसूस हो रहा है। वोरा जी कांग्रेस की विचारधारा के प्रति निष्ठा, समर्पण और धैर्य के प्रतीक थे।' उन्होंने आगे लिखा, '92 साल की उम्र में भी हर मीटिंग में उनकी मौजूदगी रही, हर निर्णय पर उन्होंने अपने विचार खुलकर प्रकट किए। आज दुःख भरे दिल से उन्हें अलविदा कहते हुए यह महसूस हो रहा है कि परिवार के एक बड़े बुजुर्ग सदस्य चले गए हैं। हम सब उन्हें बहुत याद करेंगे।'

छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल ने वोरा के निधन पर एक भावुक संदेश दिया है। बघेल ने ट्वीट किया, 'बाबूजी श्री मोतीलाल वोरा जी का जाना न केवल छत्तीसगढ़ बल्कि पूरे कांग्रेस परिवार के लिए एक अभिभावक के चले जाने जैसा है। ज़मीनी स्तर से राजनीति शुरु करके राष्ट्रीय स्तर पर उन्होंने अपनी एक अलग पहचान बनाई और आजीवन एक समर्पित कांग्रेसी बने रहे। उनकी जगह कभी नहीं भरी जा सकेगी।'

 

सीएम बघेल ने आगे लिखा, 'मैंने अपनी राजनीति का ककहरा जिन लोगों से सीखा उनमें बाबूजी एक थे।अविभाजित मध्य प्रदेश से लेकर छत्तीसगढ़ तक वे हम कांग्रेस कार्यकर्ताओं के लिए एक पथ प्रदर्शक थे। ईश्वर उन्हें अपने श्रीचरणों में स्थान दें और परिवार को इस कठिन समय में दुख सहने की शक्ति प्रदान करें।ॐ शांति:

 

मध्यप्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष व पूर्व सीएम कमलनाथ ने लिखा, 'मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री मोतीलाल वोरा जी के निधन का दुखद समाचार प्राप्त हुआ। उन्होंने जीवन पर्यन्त विभिन्न पदो पर रहकर कांग्रेस की सेवा की , कांग्रेस की मज़बूती के लिये कार्य किया। एक दिन पूर्व ही उनका 93 वाँ जन्मदिवस था।परिवार के प्रति शोक - संवेदनाएँ। ईश्वर उन्हें अपने श्रीचरणो में स्थान व पीछे परिजनो को यह दुःख सहन करने की शक्ति प्रदान करे।'

 

 

बीजेपी नेता व राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने भी वोरा के निधन पर दुख जताया है। उन्होंने ट्वीट किया, 'कांग्रेस के वरिष्ठ नेता, पूर्व राज्यसभा सांसद श्री मोतीलाल वोरा जी के निधन पर मेरी गहरी संवेदनाएँ । ईश्वर से प्रार्थना है कि वे दिवंगत आत्मा को शान्ति प्रदान करें एवं शोक संतप्त परिजनों को यह आघात सहने की शक्ति दे।'

 

मोतीलाल वोरा गांधी परिवार के बेहद करीबी थे। साल 2018 में मोतीलाल वोरा की जगह अहमद पटेल को कांग्रेस का कोषाध्याक्ष बनाया गया था। कांग्रेस के ये दोनों ही दिग्गज नेता आज इस दुनिया में नहीं हैं।