आतंक के बलबूते साम्राज्य खड़ा करने वालों का अस्तित्व स्थाई नहीं होता, पीएम मोदी ने की टिप्पणी

प्रधानमंत्री मोदी ने यह बात सोमनाथ मंदिर से जुड़े एक कार्यक्रम में कही है, मोदी की इस टिप्पणी को अफगानिस्तान के घटनाक्रम से जोड़ कर देखा जा रहा है, साथ ही पीएम की इस टिप्पणी से तालिबानी हुकूमत को लेकर भारत के स्टैंड के भी कयास लगाए जा रहे हैं

Updated: Aug 20, 2021, 01:32 PM IST

आतंक के बलबूते साम्राज्य खड़ा करने वालों का अस्तित्व स्थाई नहीं होता, पीएम मोदी ने की टिप्पणी

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा है कि आतंक के बलबूते साम्राज्य खड़ा करने वालों का अस्तित्व स्थाई नहीं होता। पीएम मोदी ने कहा है कि ऐसी ताकतें भले ही कुछ समय के लिए हावी हो जाएं, लेकिन ये ज्यादा दिनों तक मानवता को दबा कर नहीं रख सकतीं। पीएम की इस टिप्पणी को अफगानिस्तान के घटनाक्रम से जोड़ कर देखा जा रहा है। 

प्रधानमंत्री मोदी ने यह टिप्पणी आज सोमनाथ मंदिर से जुड़े एक कार्यक्रम में हिस्सा लेने के दौरान कहीं। पीएम मोदी ने कहा कि आतंक आस्था को कुचल नहीं सकता। सोमनाथ मंदिर को कितनी बार निशाना बनाया गया, लेकिन हर बार ये मंदिर खड़ा हो जाता है। पीएम ने कहा कि सोमनाथ मंदिर का इतिहास दुनिया भर के लिए एक मिसाल है। 

पीएम मोदी ने आगे कहा कि जो तोड़ने वाली शक्तियाँ हैं, जो आतंक के बलबूते साम्राज्य खड़ा करने वाली सोच है, वो किसी कालखंड में कुछ समय के लिए भले हावी हो जाएं लेकिन, उसका अस्तित्व कभी स्थायी नहीं होता, वो ज्यादा दिनों तक मानवता को दबाकर नहीं रख सकती। 

प्रधानमंत्री की इस टिप्पणी को अफगानिस्तान में बेकाबू होते हालात से जोड़कर देखा जा रहा है। इसके साथ साथ प्रधानमंत्री मोदी के इस बयान को तालिबानी हुकूमत को लेकर भारत के स्टैंड से भी जोड़कर देखा जा रहा है। क्योंकि तालिबान को लेकर भारत सरकार अब तक वेट एंड वॉच भरा रवैया ही अपना रही है। 

यह भी पढ़ें : तालिबान ने दी अल्पसंख्यकों के सुरक्षा की गारंटी, गुरुद्वारा कमेटी के साथ मीटिंग करने के बाद सामने आया बयान

दूसरी तरफ भारत सरकार अफगानिस्तान से अपने नागरिकों को जल्द से जल्द लाने की कवायद में जुटी हुई है। हुकूमत के बदलते ही अफगानिस्तान और भारत के बीच व्यापार भी बंद हो गया है। हालांकि तालिबान ने अफगानिस्तान में अल्पसंख्यकों की सुरक्षा और सभी देशों से अच्छे संबंध स्थापित करने की बात कही है। लेकिन ऐसे समय में किसी भी देश के लिए तालिबान पर भरोसा कर पाना संभव नहीं है।