दो मंत्रियों के इस्तीफे के बाद बड़े रोल में सिंधिया, मिला इस्पात मंत्रालय का अतिरिक्त प्रभार

अल्पसंख्यक मामलों के मंत्रालय का अतिरिक्त प्रभार स्मृति ईरानी को सौंप दिया गया है, जो कि मुख्तार अब्बास नकवी के पास था, वहीं इस्पात विभाग को नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया को अतिरिक्त प्रभार के रूप में दे दिया है

Updated: Jul 07, 2022, 10:00 AM IST

दो मंत्रियों के इस्तीफे के बाद बड़े रोल में सिंधिया, मिला इस्पात मंत्रालय का अतिरिक्त प्रभार

नई दिल्ली। केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी और आरसीपी सिंह ने राज्यसभा का कार्यकाल पूरा होने से एक दिन पहले बुधवार को मंत्रिमंडल से इस्तीफा दे दिया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनके योगदान की प्रशंसा की। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने उनका इस्तीफा स्वीकार कर लिया। दो मंत्रियों के इस्तीफे के बाद ज्योतिरादित्य सिंधिया बड़े रोल में आ गए हैं।

दरअसल, आरसीपी सिंह के इस्तीफे के बाद इस्पात विभाग का अतिरिक्त प्रभार अब सिंधिया को मिल गया है। अल्पसंख्यक मामलों के मंत्रालय का अतिरिक्त प्रभार स्मृति ईरानी को सौंप दिया गया है, जो कि मुख्तार अब्बस नकवी के पास था। नई जिम्मेदारी मिलने पर दोनों नेताओं ने पीएम मोदी को धन्यवाद ज्ञापित किया है।

सिंधिया ने ट्वीट किया, 'प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा इस्पात मंत्रालय का अतिरिक्त प्रभार सौंपने हेतु उनका कोटि-कोटि धन्यवाद। आपकी एवं देशवासियों की आकांक्षाओं पर खरा उतरने के लिए अहर्निश प्रतिबद्ध होकर कार्य करता रहूँगा।'

इससे पहले बुधवार को दोपहर में ज्योतिरादित्य सिंधिया ने ग्वालियर में नगरीय निकाय चुनाव में मतदान किया। उनके साथ उनके बेटे महाआर्यमन सिंधिया भी थे। सिंधिया दिल्ली से सीधे ग्वालियर पहुंचे और एएमआई शिशु मंदिर मतदान केंद्र पहुंचे, जहां उन्होंने अपने बेटे महाआर्यमन के साथ मतदान किया। वोट डालने के थोड़ी देर बाद ही वे ट्रेन से दिल्ली रवाना हो गए।