MP Cabinet Expansion : विधायक नहीं फिर भी बनाया मंत्री जनता से मजाक

Congress : अनैतिक रास्तों से प्राप्त पद तात्कालिक रूप से सत्ता के लाभ दे सकते हैं सम्मान नहीं

Publish: Jul 02, 2020 11:48 PM IST

MP Cabinet Expansion : विधायक नहीं फिर भी बनाया मंत्री जनता से मजाक

आखिरकार शिवराज सरकार का कैबिनेट विस्तार हो ही गया। 102 दिन बाद हुए इस विस्तार में सिंधिया समर्थकों का बोलबाला दिखाई दे रहा है। इस कैबिनेट विस्तार पर कांग्रेस ने बीजेपी पर निशाना साधा है। कांग्रेस का कहना है कि इस मंत्रिमंडल में बीजेपी के कई वरिष्ठ विधायकों की अनदेखी की गई है, जिन्होंने पार्टी को अपने खून पसीने से सींचा है। कांग्रेस का कहना है कि अनैतिक रास्तों से प्राप्त पद तात्कालिक रूप से सत्ता के लाभ दे सकते हैं, मगर सम्मान नहीं।

शिवराज कैबिनेट के विस्तार पर प्रतिक्रिया देते हुए पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने एक ट्वीट किया है, जिसमें उन्होंने इस विस्तार को संवैधानिक व्यवस्थाओं के साथ बड़ा खिलवाड़ बताया है। उन्होने लिखा है कि यह विस्तार प्रदेश की जनता के साथ मज़ाक है। उन्होंने लिखा है कि 33 मंत्रियों में से 14 विधायक तक नहीं हैं, जिनपर जनता से धोखे का इल्ज़ाम है, उन्हें मंत्री बना दिया गया है। दरअसल कांग्रेस से बगावतकर बीजेपी में गए इन विधायकों को उपचुनाव में अपनी विधायकी साबित करनी होगी.. इसीलिए विपक्ष इन्हें अनैतिक मान रहा है।

 

राज्य सभा सांसद विवेक तन्खा का कहना है कि ‘नवगठित मंत्रिमंडल के सदस्यों को में बधाई देता हूँ, पर उनके सफल कार्यकाल की कामना नहीं कर सकता। अनैतिक रास्तों से प्राप्त पद तात्कालिक रूप से सत्ता का लाभ दे सकते हैं, मगर सम्मान नहीं।‘क्षेत्रीय असंतुलन पर तन्‍खा ने कहा कि क्‍या भाजपा भूल गई कि महाकौशल, विंध्य,नर्मदा बेल्ट भी मप्र का अंग है। यह क्षेत्र लगभग नेतृत्वहीन है। क्या यह ग्वालियर चम्बल और मालवा की सरकार है?

 

जीतू पटवारी ने कहा है कि मंत्रिमंडल का गठन इस सरकार के अंत को निर्धारित कर रहा है, जहाँ तक प्रश्न चरित्र का है, प्रदेश की जनता इन गद्दारों को 24 सीटों के उपचुनाव में उत्तर देगी!

 

हाल ही में भाजपा से कांग्रेस में आए पूर्व मंत्री और मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रदेश उपाध्यक्ष बालेंदु शुक्ल ने कहा है कि बीजेपी नेताओं में अंतर्द्वंद चल रहा है। आगामी उपचुनाव में इस अंतर्द्वंद का फायदा कांग्रेस को मिलेगा। कांग्रेस छोड़ कर बीजेपी में गए नेताओं की स्थिति गंभीर है। बीजेपी में वरिष्ठ नेताओं को कोई तवज्जो नहीं मिल रही है। कल तक जो बीजेपी और उनके खिलाफ खड़े थे, आज उन्हीं के लिए चुनाव में झंड़ा लेकर चलना आसान नहीं होगा। बालेंदु शुक्ल ने प्रद्युम्न सिंह तोमर और इमरती देवी के चुनावी भविष्य पर सवाल खड़े किए। प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष के मीडिया समन्‍वयक नरेंद्र सलूजा ने अपने ट्वीट में लिखा है कि मंत्रिमंडल में शामिल होने से वंचित योग्य, अनुभवी, निष्ठावान बीजेपी विधायकों के साथ कांग्रेस की पूरी सहानुभूति है। कांग्रेस का ऐसा मानना है कि आज के मंत्रिमंडल के गठन में इनके साथ अन्याय हुआ है।

 

गौरतलब है कि सितंबर महीने में इन सभी बागी विधायकों को चुनाव जीतकर आना पड़ेगा और उनकी जीत पर ही सरकार का अस्तित्व टिका है। इसलिए भी सिंधिया के साथियों और कांग्रेस के बागियों को बीजेपी ने  सिर आंखों पर बिठाया है।