कुछ लोग मुझे कोच बनने नहीं देना चाहते थे, 2019 वर्ल्ड कप में नहीं मिली सही टीम: रवि शास्त्री

अंग्रेजी के एक प्रमुख अखबार से बातचीत में रवि शास्त्री ने कई खुलासे किए हैं, शास्त्री ने कहा है कि जिस तरह से उन्हें टीम से हटाया गया वो तरीका सही नहीं था

Publish: Dec 10, 2021, 04:36 PM IST

कुछ लोग मुझे कोच बनने नहीं देना चाहते थे, 2019 वर्ल्ड कप में नहीं मिली सही टीम: रवि शास्त्री

नई दिल्ली। भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व हेड कोच रवि शास्त्री ने कई खुलासे किए हैं। अंग्रेजी के एक प्रमुख अखबार से बातचीत के दौरान रवि शास्त्री ने अपने खिलाफ साजिश रचे जाने का आरोप लगाया है। हालांकि रवि शास्त्री ने किसी भी व्यक्ति का सीधे तौर पर नाम नहीं लिया है। 

अंग्रेजी अखबार ने रवि शास्त्री के हवाले से लिखा है कि इस बात की भरपूर कोशिश की गई थी कि रवि शास्त्री भारतीय टीम के मुख्य कोच नहीं बन पाएं। लेकिन रवि शास्त्री के खिलाफ साजिश रचने वाले अपने मंसूबे में कामयाब नहीं हो पाए। 

रवि शास्त्री ने कहा है कि 2015 वर्ल्ड कप के बाद उन्हें जिस तरह से भारतीय टीम के डायरेक्टर के पद से हटाया गया, वह तरीका बिल्कुल भी सही नहीं था। शास्त्री ने कहा कि इसके बाद जब भारतीय टीम का कोच बनने की बारी आई तब भी उन्हें कोच बनने देने से रोकने के लिए भरपूर प्रयास किए गए। लेकिन जल्द ही तमाम साजिशें नाकाम हो गईं। रवि शास्त्री ने कहा कि 2017 में मेरा भारतीय टीम का मुख्य कोच नियुक्त होना साजिश करने वालों के मुंह पर करारे तमाचे की तरह था। 

हालांकि रवि शास्त्री ने कहा कि वे किसी एक का नाम नहीं ले सकते। लेकिन काफी लोग थे जो उनके खिलाफ साजिश रच रहे थे। रवि शास्त्री पूर्व कोच डंकन फ्लेचर का कार्यकाल समाप्त होने के बाद भारतीय टीम के डायरेक्टर बनाए गए थे। वे 2015 वर्ल्ड कप के बाद डायरेक्टर के पद से हटा दिए गए थे। उनके बाद अनिल कुंबले भारतीय टीम के कोच बने थे। लेकिन टीम के तत्कालीन कप्तान विराट कोहली से अनबन के बाद अनिल कुंबले कोच के पद से हटा दिए गए। जिसके बाद रवि शास्त्री हेड कोच के रूप में भारतीय टीम के साथ दोबारा जुड़ गए। 

इसके अलावा रवि शास्त्री ने 2019 वर्ल्ड कप के लिए की गए टीम के चयन पर भी सवाल खड़े किए और खुलासे भी किए। रवि शास्त्री ने बताया कि वे टीम के चयन में दखल नहीं देते थे। 2019 वर्ल्ड कप के लिए जो टीम चुनी गई वो सही नहीं थी। शास्त्री ने कहा कि उस टीम में तीन तीन विकेटकीपर बल्लेबाज (धोनी, दिनेश कार्तिक और ऋषभ पंत) थे। जबकि टीम में श्रेयस अय्यर और अंबाती रायडू में से किसी एक को चुना जाना चाहिए था। 

पिछले वर्ल्ड कप में भारतीय टीम सेमीफाइनल में लो स्कोरिंग गेम में न्यूजीलैंड से हार कर वर्ल्ड कप से बाहर हो गई थी। वर्ल्ड कप से पहले ही भारतीय टीम को चार नंबर के बल्लेबाज की तलाश थी। वर्ल्ड कप से ठीक पहले अंबाती रायडू लगातार शानदार प्रदर्शन कर रहे थे। अंबाती रायडू की टीम में जगह लगभग पक्की मानी जा रही थी। लेकिन वर्ल्ड कप के लिए जब भारतीय टीम में अंबाती रायडू का चयन नहीं हुआ, तब इस फैसले ने सबको चौंका दिया। 

भारतीय टीम में चयन नहीं होने के बाद अंबाती रायडू ने अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट से अचानक संन्यास ले लिया। पूरे वर्ल्ड कप में भारतीय बैटिंग लाइन अप को मध्य क्रम में रायडू की कमी खलती रही। सेमीफाइनल मुकाबले में भारतीय टीम एक आसान से टोटल का पीछा नहीं कर पाई और वर्ल्ड कप से बाहर हो गई।