छत्तीसगढ़ पुलिस को मिली बड़ी सफलता, कवर्धा के जंगल से 10 लाख रुपए कैश समेत बड़ी मात्रा में नक्सली हथियार बरामद

जिला पुलिस बल ने नक्सलियों के हौसले किए पस्त, जंगल में नक्सलियों द्वारा छिपाकर रखे दस लाख रुपये नगद समेत टिफिन बम, नक्सलियों की वर्दी, राशन, कारतूस, बैटरी, सोलर-पैनल, वॉकी-टॉकी, दवाओं समेत बड़ी मात्रा में सामान जब्त किया

Publish: Jun 24, 2021, 02:14 PM IST

छत्तीसगढ़ पुलिस को मिली बड़ी सफलता, कवर्धा के जंगल से 10 लाख रुपए कैश समेत बड़ी मात्रा में  नक्सली हथियार बरामद
Photo Courtesy: news 18

कवर्धा। छत्तीसगढ़ में नक्सलियों के खिलाफ चलाए जा रहे अभियान में सुरक्षाबलों को बड़ी कामयाबी हाथ लगी है। नक्सलियों द्वारा जंगलों छिपा कर रखे गए 10 लाख रुपए कैश समेत बड़ी मात्रा में हथियार और नक्सल उपयोग का सामान   सुरक्षा बलों ने जब्त कर लिया है। सुरक्षा बलों ने भोरमदेव अभयारण्य क्षेत्र में चार जगहों में छिपाकर रखे 10 लाख रुपये कैश, एक कुकर बम, 430 जिंदा कारतूस, दो किलो बारुद, नक्सली साहित्य, वासरलेस सेट, वॉकीटॉकी, पुराने कीपेड मोबाइल, सोलर प्लेट, कलर प्रिंटर, दवाइयां जिनमें सीरिंज और  टैबलेट भी शामिल है।

वहीं दो जोड़ी नक्सली वर्दी, रेडियो, पिट्ठू बैग, तीन स्टील ड्रम, एक पानी टंकी और ड्रम, तिरपाल के साथ बहुत सा नक्ली उपयोग का सामान बरामद किया है। यह सब सामान नक्सलियों ने बड़े शातिर तरीके से पानी की टंकियों और ड्रमों में छिपाकर रखा था। इन्हे जंगल के अलग-अलग हिस्सों में छिपा कर रखा गया था।

दरअसल कुछ दिनों पहले दो इनामी नक्सलियों ने पुलिस के सामने संरेंडर किया था। उनकी निशानदेही पर सुरक्षा बलों ने भोरमदेव और झलमला थाना क्षेत्र में सर्चिंग की और नक्सलियों का सामान जब्त किया।

कवर्धा एसपी शलभ कुमार सिन्हा ने इसकी पुष्टि की है। उन्होंने बताया कि दो नक्सलियों ने 9 मई 2021 को पुलिस के सामने सरेंडर किया था। एक 13 लाख का इनामी नक्सली एरिया कमांडर दिवाकर था, वहीं दूसरी महिला नक्सली थी, जिस पर 5 लाख का इनाम था। ये दोनों कई नक्सल हमलों में आरोपी थे। इन दोनों ने सरेंडर के बाद पुलिस को नक्सलियों से जुड़ी खूफिया जानकारियां दी थी।

इनसे मिली जानकारियों के बाद पुलिस ने कवर्धा के जंगलों से बड़ी मात्रा में हथियार, बम, कारतूस और 10 लाख रुपए नकद बरामद किया है। इस बरामदगी से माना जा रहा है कि नक्सलियों  के हौसले पस्त होंगे। नक्सली इन हथियारों का उपयोग किसी बड़ी घटना को अंजाम देने के लिए कर सकते थे।