पाबंदियों के बीच इंडियन ऑयल का रूस से हुआ करार, कच्चे तेल के आयात की डील फाइनल

अमेरिका समेत तमाम पश्चिमी देशों ने रूस पर तेल आयात समेत अन्य कई प्रतिबंध लागू किया है, इधर भारतीय कंपनी इंडियन ऑयल ने रूस के साथ कच्चे तेल का डील फाइनल किया है

Updated: Mar 19, 2022, 04:15 PM IST

पाबंदियों के बीच इंडियन ऑयल का रूस से हुआ करार, कच्चे तेल के आयात की डील फाइनल

नई दिल्ली। भारत की सबसे बड़ी पेट्रोलियम उत्पादक कंपनी इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन लिमिटेड (IOCL) ने रूसी तेल कंपनी से डील फाइनल कर लिया है। रिपोर्ट्स के मुताबिक IOCL यह डील के तहत रूसी कंपनी से 30 लाख बैरल कच्चे तेल की खरीद करेगी। 

मीडिया सूत्रों के मुताबिक इस डील के लिए दोनों कंपनियों के बीच सीधी बातचीत हुई है, और सौदा अंतिम चरण में पहुंच चुका है। रूस कंपनी के साथ IOCL का ये सौदा अंतरराष्ट्रीय बाजार की सभी नियमों और शर्तों के आधार पर ही हुआ है। दरअसल, अमेरिका समेत तमाम पश्चिमी देशों ने यूक्रेन पर रूसी हमले के जवाब में रूस के तेल आयात प्रतिबंध सहित अन्य प्रतिबंध लगाए हैं।

यह भी पढ़ें: मौत के तीन हफ्ते बाद भारत आएगा यूक्रेन में मारे गए छात्र नवीन का शव, परिजनों ने किया देहदान का फैसला

हालांकि, रूसी तेल कंपनियों से कच्चा तेल खरीदने के लिए भारतीय तेल कंपनियों पर किसी तरह का कोई प्रतिबंध नहीं लगाया गया है। जैसे ही अमेरिका और अन्य पश्चिमी देशों ने रूस पर प्रतिबंध लगाना शुरू किया तो रूस भारत समेत अन्य बड़े आयातकों को रियायती दर पर तेल देने की पेशकश कर दी है।फिलहाल अन्य कई भारतीय तेल कंपनियां कच्चे तेल के आयात के लिए रूसी तेल कंपनियों के साथ सौदा कर सकती है।

रूसी कंपनियों के साथ ये सौदा ऐसे ऐसे समय में हो रहा है जब वैश्विक कच्चे तेल की कीमतें 100 डॉलर प्रति बैरल से ऊपर पहुंच गई हैं। रूस के आक्रमण के बाद से दुनियाभर बाजार में तेल की कीमतों में तेज से इजाफा हुआ है। जिसका असर लोगों की जेब पर पड़ा है। चूंकि, भारत अपनी जरूरत का 80 प्रतिशत से अधिक कच्चा तेल आयात करता है, ऐसे में भारतीय बाजारों में भी पेट्रोलियम की कीमतों में वृद्धि होने की संभावनाएं थी।