मध्य प्रदेश के चित्रकूट में लगा गधों का अनोखा मेला, सलमान नाम के गधे की लगी सबसे महंगी बोली

औरंगजेब के दौर में सेना में जब रसद की कमी पड़ गई तो इस पूरे क्षेत्र के खच्चर और गधे मालिकों को एक मैदान में एकत्रित किया गया और उनकी खरीदी हुई, तब से यह मेला शुरू हुआ जो आज भी निरंतर चल रहा है।

Updated: Oct 27, 2022, 12:25 PM IST

मध्य प्रदेश के चित्रकूट में लगा गधों का अनोखा मेला, सलमान नाम के गधे की लगी सबसे महंगी बोली

चित्रकूट। मध्य प्रदेश के सतना जिले की धार्मिक नगरी चित्रकूट की मंदाकिनी नदी के तट पर गधों का एक अनोखा मेला लगा है। इस मेले में सलमान, शाहरुख और आमिर नाम के गधे भी पहुंचे। हैं। चित्रकूट में लगे इस गधों के मेले में अलग-अलग प्रदेशों के कारोबारी खच्चर और गधे लेकर पहुंचे हैं, जिनकी जमकर खरीद बिक्री हो रही है।

बताया जा रहा है कि इस साल सलमान, ह्रितिक रोशन, रणवीर नाम वाले गधों की बोली लगाई गई। सलमान सबसे महंगा बिका। सलमान की कीमत 2 लाख रुपए लगाई गई। जबकि शाहरुख नाम का गधा महज 90 हजार में बिका। फतेहपुर यूपी से आए एक व्यक्ति ने बताया कि वो इस बार 6 गधे लेकर आए हैं जिसमें से एक 33 हजार का बिका है। अयाज पिछले 2-3 साल से इस मेले में आ रहे हैं। बांदा से आए ओमप्रकाश ने बताया कि वो पिछले 15 साल से यहां आ रहे हैं। उन्होंने मेले से दो गधे खरीदे जिनकी कीमत 1 लाख रुपए है।

यह भी पढ़ें: आस्था के नाम पर अंधविश्वास: उज्जैन में खुशहाली के लिए इंसानों के ऊपर दौड़ाई गईं गौ माता

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक मेले में इस बार लगभग 15 हजार गधे आए। अलग-अलग नस्लों के इन गधों की कीमत दस हजार से लेकर दो लाख रुपए तक रही। इनमें मजबूत जिस्म और ताकतवर गधों को बाहर से आए खरीददारों ने खरीदा। इनका काम श्रद्धालुओं को बद्रीनाथ धाम और माता वैष्णो देवी की कठिन चढ़ाई चढ़ाने के लिए होगा। खास बात यह है कि यहां खरीददार और बेचने वालों से ज्यादा देखने वालों की संख्या पहुंच रही है। 

वर्षों से चली आ रही परंपरा के अनुसार यह मेला दीपावली के अगले दिन से लगता है और तीन दिनों तक चलता है। मेले का संचालन चित्रकूट नगर परिषद, जिला सतना करता है। स्थानीय जानकारों की मानें तो यह मेला औरंगजेब के समय से निरंतर चला रहा है। औरंगजेब के दौर में सेना में जब रसद और अन्य सामान की कमी पड़ गई तो इस पूरे क्षेत्र के खच्चर और गधे मालिकों को एक मैदान में एकत्रित किया गया और माल की ढुलाई के लिए गधों की खरीदी हुई, तब से शुरू हुआ यह मेला अब भी चल रहा है।