Jyotiraditya Scindia: खत्म हुई दो गज की दूरी, नियमों की उड़ी धज्जियाँ

JM Scindia in Ujjain: सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ बिना मास्क फोटो खिंचवाता रहा कोरोना पॉज़िटिव, जनता पर जुर्माना लगाने वाला प्रशासन मूक दर्शक

Updated: Aug-18, 2020, 05:22 PM IST

Jyotiraditya Scindia: खत्म हुई दो गज की दूरी, नियमों की उड़ी धज्जियाँ

उज्जैन। इंदौर-भोपाल के साथ प्रदेश के कोरोना हॉट स्पॉट उज्जैन में पिछले 24 घंटों में 16 पॉज़िटिव केस आए। इन्हें मिला कर शहर में कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़ कर 1124 हो गई है। यहाँ कुल 76 लोगों की जान कोरोना के कारण गई है वहीं शहर में अब भी 191 एक्टिव केस हैं। देश में सबसे ज़्यादा कोरोना डेथ रेट वाले इस शहर में जब बीजेपी सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया आए तो सोशल डिस्टेंस के लिए दो गज की दूरी जैसे नियम ध्वस्त हो गए।

उज्जैन में कोरोना टेस्ट करवाया हुआ बीजेपी पदाधिकारी ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ बिना मास्क फोटो खिंचवाता रहा। शाम को सिंधिया के जाते हाई युवक की रिपोर्ट पॉज़िटिव आ गई। उज्जैन के कुछ घंटों की सिंधिया की यात्रा के दौरान कहीं रैलिंग टूटी कहीं धक्का मुक्की से लोग एक दूसरे पर गिरे। कमाल की बात यह रही कि बिना मास्क निकल जाने पर जनता पर डंडे बरसाने वाली व जुर्माना लगाने वाला पुलिस व प्रशासन यह सब देखते  रहे। न कोई एफआईआर की गई न कोई जुर्माना ही हुआ। 

सोशल डिस्टेंस टूटने का आलम यह था कि ज्योतिरादित्य सिंधिया जहां जहां गए हुड़दंग हुई। ऐसी हुड़दंग उनके स्वागत की पहचान बन चुकी है। सबसे ज़्यादा बड़ी चूक तो कोरोना संक्रमित युवा नेता के बार बार उनके पास रहने से हुई। उज्जैन दौरे के दौरान सिंधिया के साथ सेल्फी लेने वाला युवक कोरोना संक्रमित पाया गया है। रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद युवक को तत्काल प्रभाव से क्वारंटाइन कर दिया गया है। बीजेपी नेताओं से भेंट, महाकाल के दर्शन और शाही सवारी के दौरान एक युवक सिंधिया के आसपास घूमता रहा। पूर्व पार्षद अमित श्रीवास्तव और योगेश संगते के साथ आए इस युवक ने सिंधिया और बीजेपी नेताओं के साथ सेल्फी भी ली। इस युवक का कोरोना जांच के लिए सैंपल लिया गया था। शाम को इसकी कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई। तब युवक को उज्जैन के मक्सी रोड स्थित क्वारंटाइन सेंटर में रखा गया है। लेकिन तब तक तो वह कोरोना संक्रमण का खतरा बन घूमता रहा। 

उज्जैन में ज्योतिरादित्य सिंधिया एक हादसे में घायल होने से भी बच गए। रामघाट के ऊपर राणा जी की छतरी पर जाते समय एक रैलिंग टूट कर गिर गई। सुरक्षाकर्मियों और समर्थकों के बीच धक्का-मुक्की होने से सीढ़ियों की एक तरफ की सीमेंट की रैलिंग गिर गई। जब यह रैलिंग गिरी तब सिंधिया पास से गुजर रहे थे। 

मंत्री तुलसी सिलावट खुद तोड़ते रहे नियम 

सभी जानते हैं कि जल संसाधन मंत्री तुलसी सिलावट सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया के कितने बड़े समर्थक हैं। ऐसा कैसे हो सकता है कि ज्योतिरादित्य सिंधिया  इंदौर आएँ और सिलावट अपने नेता के स्वागत की व्यवस्था न सम्भालें? मगर ऐसा करते हुए उन्होंने कई लोगों के लिए कोरोना का खतरा पैदा कर दिया। कांग्रेस नेता नरेंद्र सलूजा ने इस पर ट्वीट करते हुए कहा कि मंत्री तुलसी सिलावट ने ICMR की कोरोना को लेकर गाइडलाइन का खुला उल्लंघन किया है। उन्हें 7 दिन के लिये होम आईसोलेशन में रहना चाहिये था लेकिन सिंधिया के स्वागत के लिये विमानतल पहुँच गये। उन्होंने कोरोना को मजाक बना दिया और कई लोगों के स्वास्थ्य व सुरक्षा के साथ खिलवाड़ किया। 

 

क्या बीजेपी के लिए कोई नियम नहीं?

मध्य प्रदेश में यह सवाल फिर उठ खड़ा हुआ है कि क्या सारे नियम क़ानून विपक्ष के लिए है? क्या बीजेपी के लिए कोई क़ानून, कोई सोशल डिस्टेंस का नियम नहीं है? यह सवाल इस लिए की बीते दिनों एमपी में पुलिस ने आम जनता पर लॉकडाउन के नियम तोड़ने पर न केवल मामले दर्ज किए बल्कि जुर्माना भी वसूला है। कांग्रेस नेताओं एक प्रदर्शन पर मुक़दमे दर्ज किए गए हैं।

Click  Digvijaya Singh : क्‍या BJP के लिए सोशल डिस्‍टेंस अनिवार्य नहीं है

इंदौर में तो कांग्रेस विधायक और प्रदेश कांग्रेस मीडिया विभाग के अध्यक्ष जीतू पटवारी के खिलाफ शिकायत दर्ज करवाने के लिए बीजेपी नेताओं ने आधी रात ज्ञापन किया।  कांग्रेसी नेताओं ने इस पर सवाल उठाते हुए कहा था कि नाईट कर्फ्यू होने के बावजूद पुलिस ने बीजेपी नेताओं की मौजूदगी में आखिर रात के 11 बजे एफआईर कैसे दर्ज की?