भोपाल में बीते तीन दिनों में 124 शवों की हुई अंत्येष्टि, शिवराज सरकार के मुताबिक सिर्फ 4 मरे

स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी हेल्थ बुलेटिन के मुताबिक राजधानी में बीते तीन दिनों में केवल चार लोगों की ही कोरोना के कारण मौत हुई है, लेकिन शहर के श्मशान घाट और कब्रिस्तान में बीते तीन दिनों में ही 100 से ज़्यादा शव अंतिम संस्कार के लिए लाए जा चुके हैं

Updated: Apr 11, 2021, 08:14 PM IST

भोपाल में बीते तीन दिनों में 124 शवों की हुई अंत्येष्टि, शिवराज सरकार के मुताबिक सिर्फ 4 मरे
Photo Courtesy: Dainik Bhaskar

भोपाल। शिवराज सरकार के स्वास्थ्य विभाग पर लगातार कोरोना के फर्जी आंकड़े जारी करने के आरोप लग रहे हैं। स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक पिछले तीन दिनों में कोरोना से सिर्फ चार लोगों की मृत्यु हुई लेकिन शहर में श्मशान घाट और कब्रिस्तान में पहुंच रही लाशें सरकारी आंकड़े का साथ नहीं दे रही हैं। सरकारी रिकॉर्ड के विपरीत पिछले तीन दिनों में राजधानी में 124 शवों का अंतिम संस्कार किया गया है। जिनकी मौत कोरोना के कारण हुई है। यह आंकड़े भोपाल के भदभदा विश्राम घाट, सुभाष नगर स्थित श्मशान घाट और झदा कब्रिस्तान के हैं। 

यह भी पढ़ें : मृतक के शव को लेकर बीच सड़क पर बैठे परिजन, परिजनों ने कहा, शिवराज सिंह को बुलाओ

इस मसले पर जब हमने भदभदा विश्राम घाट के मैनेजर लाड सिंह से बात की तो उन्होंने हम समवेत को बताया कि सिर्फ आज दोपहर तक कोरोना के 25 शवों को अंत्येष्टि के लिए लाया गया है। यही नहीं, बाहर कोरोना शवों की लाइन लगी हुई। सुभाष नगर श्मशान घाट के कर्मचारी सोमराज ने बताया कि कल यानी शनिवार को श्मशान घाट पर कोरोना के 19 शवों को लाया गया था। सोमराज सिंह ने कहा कि अभी भी कोरोना के शव श्मशान घाट लाए जा रहे हैं, लिहाज़ा व्यस्त होने के कारण वो ज़्यादा बात नहीं कर सकते। 

वहीं झदा कब्रिस्तान की देखरेख करने वाले रेहान ने बताया कि बीते तीन दिनों में कब्रिस्तान में 19 शवों को लाया गया था। जिसमें 7 शव कोरोना संदिग्ध थे। वहीं 12 कोरोना के शव थे। आज दोपहर तक झदा कब्रिस्तान में कोरोना के तीन शवों को सुपुर्द ए ख़ाक के लिए लाया जा चुका है। 

एक तरफ शहर में कोरोना से इतनी बड़ी संख्या में लोगों की मौत हो रही है। दूसरी तरफ स्वास्थ्य विभाग पर कोरोना से मरने वालों का आंकड़ा छिपाने का इल्जाम लग रहा है। आज शाम भी जब स्वास्थ्य विभाग कोरोना मृतकों का आंकड़ा जारी करेगा तब उस दौरान भी बमुश्किल दो लोगों की ही मृत्यु रिकॉर्ड में दर्ज किए जाने की संभावना ज़्यादा है। 

यह भी पढ़ें : बीजेपी विधायक अजय विश्नोई और सरकार के बीच वीडियो कांफ्रेंस में तीखी बहस, कोरोना के सरकारी आंकड़ों पर उठाए सवाल

हालांकि कोरोना के आंकड़े में हेरा फेरी का मामला सिर्फ राजधानी भोपाल तक ही सीमित ही नहीं है। खुद जबलपुर के पाटन से बीजेपी के विधायक अजय विश्नोई एक वर्चुअल मीटिंग में मुख्यमंत्री की मौजूदगी में स्वास्थ्य विभाग पर कोरोना संक्रमितों तथा कोरोना से मरने वाले लोगों का आंकड़ा छिपाने का आरोप लगा चुके हैं। 

प्रदेश कांग्रेस कमेटी के मीडिया विभाग के उपाध्यक्ष भूपेंद्र गुप्ता ने भी अजय विश्नोई के बयान का हवाला देकर सरकार की मंशा पर सवाल खड़े किए हैं। गुप्ता ने कहा है कि झूठ की खेती कर सरकार खुद का नुकसान कर रही है। गुप्ता ने कहा कि उन्होंने खुद की आंखों से कोरोना की 16 लाशें देखी हैं। ऐसे में अफसर एक दो मौत क्यों बता रहे हैं? गुप्ता ने कहा कि विश्नोई के आरोपों ने सरकार की पोल खोल दी है। विश्नोई के आरोपों पर सरकार को जवाब देना चाहिए।