दस रुपए के चक्कर में चली गई युवक की जान, पिता पुत्र ने मिलकर युवक को उतारा मौत के घाट

हार्डवेयर स्टोर चलाने वाले उपेंद्र चतुर्वेदी के बेटे अनुराग चतुर्वेदी ने विष्णु विश्वकर्मा को चाकुओं से वार कर दिया, इस दौरान अनुराग का पिता यह सब होते देखते रहा

Updated: Mar 24, 2021, 07:01 PM IST

दस रुपए के चक्कर में चली गई युवक की जान, पिता पुत्र ने मिलकर युवक को उतारा मौत के घाट
Photo Courtesy :Dainik Bhaskar

जबलपुर। जबलपुर में दिल दहलाने वाला मामला सामने आया है। शहर के गुलौआ चौक स्थित हार्डवेयर की दुकान संचालित करने वाले बाप बेटों ने एक युवक की जान ले ली। महज़ दस रुपए के विवाद के चलते दुकानदार के बेटे ने दिन दहाड़े ग्राहक को चाकुओं से गोद दिया। चाकुओं से लगातार वार होने के कारण युवक ने अस्पताल पहुँचने से पहले ही दम तोड़ दिया। दोनों बाप बेटे पुलिस की गिरफ्त में आ गए हैं।  

यह वारदात बुधवार सुबह 11 बजे के आसपास की है। 28 वर्षीय विष्णु विश्वकर्मा अपने बहनोई ठाकुर दास विश्वकर्मा के साथ ज़रूरी सामान खरीदने बाजार की तरफ निकला था। गुलौआ चौक पर ठाकुर दास विश्वकर्मा को कुछ परिचित मिल गए, लिहाज़ा वे उन लोगों से बात करने लगे। इसी बीच युवक हार्डवेयर की दुकान की तरफ सामान खरीदने चला गया।  

हार्डवेयर की दुकान पर उस समय दुकान का मालिक उपेंद्र चतुर्वेदी और उसका बेटा अनुराग मौजूद था। विष्णु ने दुकान से लोहा कब्ज़ा और लकड़ी पेंट ख़रीदा। सामान खरीदने के बाद विष्णु ने जब सामान की कीमत जाननी चाही तब बाप और बेटे दोनों ने ही सामान की अलग अलग कीमत बताई। दोनों की कीमतों में दस रुपए का अंतर था। इतने पर विष्णु भड़क गया और आक्रोशवश खुद के लिए गाली का एक शब्द उपयोग करते हुए कहा [email protected]@#$ समझा है क्या? इतने पर दुकानदार और उसके बेटे ने अपना आपा खो दिया।  

अनुराग चतुर्वेदी ने एक के बाद एक लगातार चाकू से वार करना शुरू कर दिया। लगातार चाकू से वार किए जाने के कारण विष्णु लहूलुहान हो कर गिर पड़ा। आसपास सनसनी फ़ैल गई। इसी बीच दुकानदार का बेटा दौड़कर घर में जा भागा और वहीं छिप गया। उसने जल्दबाज़ी में चाकू को सेप्टी टैंक में फेंक दिया। हालांकि दुकानदार खुद दुकान पर ही मौजूद रहा। विष्णु को आनन फानन में इलाज के लिए अस्पताल ले जाया जा रहा था लेकिन विष्णु ने रास्ते में ही दम तोड़ दिया। पुलिस ने दोनों आरोपियों को अपनी गिरफ्त में ले लिया है।