MP में टूटी मुर्गी की टांग, पुलिस ने तत्काल कराया मेडिकल टेस्ट, आरोपी के खिलाफ FIR दर्ज

मध्यप्रदेश पुलिस की सक्रियता देख आप भी रह जाएंगे दंग, यौन शोषण जैसे गंभीर मामले में नहीं होते एफआईआर, लेकिन मुर्गे-मुर्गियों के साथ बर्बरता नहीं होंगे बर्दाश्त

Updated: Jul 09, 2021, 04:22 PM IST

MP में टूटी मुर्गी की टांग, पुलिस ने तत्काल कराया मेडिकल टेस्ट, आरोपी के खिलाफ FIR दर्ज

खरगोन। मध्यप्रदेश की पुलिस यूं तो एफआईआर दर्ज न करने को लेकर देशभर में प्रसिद्ध है, लेकिन खरगोन जिले की पुलिस एक मुर्गी को न्याय दिलाने के लिए जिस तत्परता से काम के रही है उस देख आप भी दंग रह जाएंगे। यहां एक अपराधी ने पत्थर मारकर मुर्गी की टांग तोड़ दी। इस घटना के बाद पुलिस ने तत्काल पीड़ित मुर्गी की मेडिकल जांच कराई और मेडिको लीगल सर्टिफिकेट (MLC) बनवाकर आरोपी के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर लिया है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक पशु अस्पताल में मेडिकल जांच के बाद डॉक्टर लोकेंद्र सिंह ने मुर्गी की टांग फ्रैक्चर होने की पुष्टि कर दी है। महेश्वर थाना प्रभारी पुष्पकरण मूवेल ने बताया कि पुलिस द्वारा दर्ज की गई एफआईआर के साथ मुर्गी की MLC रिपोर्ट चालान के साथ कोर्ट में पेश की जाएगी। मुर्गी भले ही इनसब कार्रवाई से अंजान हो लेकिन पीड़ित परिजनों को उम्मीद है कि मुर्गी के साथ अदालत न्याय करेगा और आरोपी को सजा दी जाएगी।

यह भी पढ़ें: पेशे से टीचर और काम घूसखोरी, रोजगार सहायिका अपने शिक्षक पति के साथ 50 हजार की रिश्वत लेते धराई

मुर्गी मालिक की पहचान महेश्वर के काकरिया गांव निवासी 27 वर्षीय सुनील औसरी के रूप में हुई है। उसी की शिकायत पर पुलिस ने एफआईआर दर्ज की है। सुनील के मुताबिक उनकी मुर्गियां पड़ोसी मुकेश के खेत में दाना चुग रही थी। इन बात से मुकेश भड़क गया और उसने मुर्गियों पर पत्थर मारा। इस हमले में लाल रंग की एक मुर्गी का पैर टूट गया और वह गंभीर रूप से घायल हो गई। 

सुनील के मुताबिक जब उन्होंने मुकेश से इस बात की शिकायत की तो उसने गालियां देते हुए कहा कि आगे से तुम्हारे घर की एक भी मुर्गी मेरे खेत में नहीं आनी चाहिए। उन्होंने बताया कि मुर्गी की उम्र 6 महीने है और बाजार में उसका भाव 300 रुपए के करीब है। बहरहाल इस मामले में पुलिस की तत्परता देख लोग इसलिए हैरान हैं क्योंकि यह वही मध्यप्रदेश पुलिस है जहां महिलाएं यौन शोषण का रिपोर्ट लिखवाने महीनों चक्कर काटती रहती हैं लेकिन कोई सुनवाई नहीं होती।