यूथ कांग्रेस अध्यक्ष बनते ही एक्शन में विक्रांत भूरिया, कृषि कानूनों के खिलाफ फूंका बिगुल

पूर्व केंद्रीय मंत्री कांतिलाल भूरिया के बेटे विक्रांत भूरिया शुक्रवार को ही मध्य प्रदेश यूथ कांग्रेस के अध्यक्ष चुने गए हैं, जीत के साथ ही उन्होंने अपने समाज के लिए जिम्मेदारियां निभाने की बात कही

Updated: Dec 19, 2020, 02:13 AM IST

यूथ कांग्रेस अध्यक्ष बनते ही एक्शन में विक्रांत भूरिया, कृषि कानूनों के खिलाफ फूंका बिगुल
Photo: Humsamvet

भोपाल। मध्य प्रदेश यूथ कांग्रेस के नवनिर्वाचित अध्यक्ष डॉ विक्रांत भूरिया जीत के साथ ही एक्शन में आ गए हैं। विक्रांत ने कहा कि वह आज से ही किसान आंदोलन में आदिवासियों को जोड़ने के लिए युद्ध स्तर पर जुट गए हैं। उन्होंने कहा कि वह मध्य प्रदेश के आदिवासी युवाओं को केंद्र की मोदी सरकार के बहकावे में नहीं आने देंगे। आदिवासी समाज के दिग्गज नेता कांतिलाल भूरिया के बेटे विक्रांत आज ही मध्य प्रदेश यूथ कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष चुने गए हैं।

विक्रांत ने हम समवेत से बातचीत के दौरान कहा, 'हमारे प्रदेश में 22 फीसदी आबादी आदिवासी है। यानि प्रदेश का हर चौथा व्यक्ति आदिवासी समुदाय से आता है। मुझे ये लगता है कि जो किसान आंदोलन चल रहा है उससे आदिवासियों को अलग करके देखा जा रहा है। लेकिन आदिवासियों की समस्याएं भी वही हैं जो देश के किसानों की हैं।'

आदिवासियों को करूंगा जागरूक - विक्रांत

विक्रांत भूरिया ने कहा कि वह आदिवासी समाज के लोगों को जागरूक करने का काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा, 'हमारे किसान भाइयों को जागृत करना और उन्हें इन काले कानूनों के खिलाफ चल रहे आंदोलन से बड़े पैमाने पर जोड़ने का मेरा प्रयास रहेगा। आज मैं प्रदेश अध्यक्ष बना हूं तो मेरी यह जवाबदेही बनती है कि जिस समाज से मैं आता हूं, उसके हर संघर्ष में साथ खड़ा रहूं।'

कौन हैं विक्रांत भूरिया 

विक्रांत भूरिया दिग्गज कांग्रेस नेता व पूर्व केंद्रीय मंत्री कांतिलाल भूरिया के बेटे हैं। आदिवासी समाज से आने वाले विक्रांत भूरिया अपने विधानसभा क्षेत्र में लंबे समय से सक्रिय हैं। साल 2018 में कांग्रेस ने उन्हें झाबुआ से विधानसभा उम्मीदवार भी बनाया था। वह पेशे से सर्जन हैं और जूनियर डॉक्टर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष भी रह चुके हैं। 

मध्य प्रदेश यूथ कांग्रेस में सचिव पद का चुनाव जीते अनिल मिश्रा ने कहा कि केंद्र की मोदी सरकार काले कृषि कानूनों को लागू करके दलितों, आदिवासियों और किसानों को अपंग बनाने की साजिश रच रही है। प्रदेश के शकुनि मामा भी इन कानूनों के बारे में लगातार झूठ बोल रहे हैं। युवक कांग्रेस कभी उन्हें अपने मंसूबे में कामयाब नहीं होने देगी।