उज्जैन: चुनाव नतीजों के खिलाफ कोर्ट जाएंगे कांग्रेस मेयर प्रत्याशी, सरकारी मशीनरी के दुरुपयोग का आरोप

उज्जैन महापौर चुनाव में भाजपा प्रत्याशी मुकेश टटवाल ने कांग्रेस के महेश परमार को 736 मतों से शिकस्त दी है, कांग्रेस का आरोप है कि यहां मतगणना को प्रभावित किया गया

Updated: Jul 21, 2022, 06:31 PM IST

उज्जैन: चुनाव नतीजों के खिलाफ कोर्ट जाएंगे कांग्रेस मेयर प्रत्याशी, सरकारी मशीनरी के दुरुपयोग का आरोप

उज्जैन। मध्य प्रदेश नगर निगम चुनाव के नतीजे आ गए हैं। इस बार सत्ताधारी दल बीजेपी को 16 में से 7 सीटें गंवानी पड़ी। कांग्रेस ने इस चुनाव में पांच नगर निगम पर कब्जा जमाया। कांग्रेस का आरोप है कि दो जगह सरकारी मशीनरी का दुरुपयोग पर बीजेपी ने जीत हासिल की है। इसी बीच उज्जैन से चुनाव हारने वाले कांग्रेस महापौर प्रत्याशी महेश परमार ने कोर्ट जाने की बात कही है।

कांग्रेस के महापौर प्रत्याशी महेश परमार ने कहा कि वह चुनाव परिणाम से संतुष्ट नहीं हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि सरकारी मशीनरी का उपयोग कर परिणाम बदले गए। परमार का तर्क है कि पहले उन्हें 923 वोटों से हारा हुआ बताया गया था। बाद में जब उन्होंने इस पर आपत्ति ली तो 736 वोट से हारा हुआ घोषित कर दिया।

यह भी पढ़ें: इंदौर: दिग्विजय सिंह ने किया ईडी दफ्तर का घेराव, बोले- स्वतंत्रता संग्राम में BJP ने नाखून तक की कुर्बानी नहीं दी

बता दें कि उज्जैन महापौर चुनाव में भाजपा प्रत्याशी मुकेश टटवाल और कांग्रेस के महेश परमार के बीच कड़ा मुकाबला था। जिला प्रशासन ने भाजपा प्रत्याशी मुकेश टटवाल को निर्वाचित महापौर घोषित कर दिया था। पहले बताया गया कि बीजेपी प्रत्याशी ने 923 वोट से जीत दर्ज की है। हालांकि, इस दौरान कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने गड़बड़ी का आरोप लगाते हुए हंगामा शुरू कर दिया।

बवाल बढ़ने के बाद एक बार फिर काउंटिंग की बात कही गई। हालांकि, थोड़े ही देर में एक बार फिर बीजेपी प्रत्याशी को 736 मतों से विजयी घोषित कर दिया गया। पीसीसी चीफ कमलनाथ ने भी बुधवार को प्रेस कांफ्रेंस के दौरान कहा था कि उज्जैन में सरकारी मशीनरी का दुरुपयोग कर मतगणना को प्रभावित किया गया।