MP By Elections: कांग्रेस नेता दिनेश गुर्जर पर FIR, सीएम शिवराज को भूखा-नंगा कहने का आरोप

FIR On Dinesh Gurjar: कांग्रेस नेता का बयान आचार संहिता का उल्लंघन माना गया, गुर्जर ने पिछले पांच साल में शिवराज की संपत्ति में हुई बढ़ोतरी पर उठाए थे सवाल

Updated: Oct-15, 2020, 01:56 PM IST

MP By Elections: कांग्रेस नेता दिनेश गुर्जर पर FIR,  सीएम शिवराज को भूखा-नंगा कहने का आरोप
Photo Courtesy: Dainik Bhaskar

अशोकनगर। मध्य प्रदेश के अशोकनगर में चुनावी सभा के दौरान मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को भूखा नंगा कहने वाले कांग्रेस नेता दिनेश गुर्जर के खिलाफ एफआईआर (FIR) दर्ज की गई है। रिटर्निंग ऑफिसर ने कांग्रेस नेता के इस बयान को आचार संहिता का उल्लंघन माना है। पुलिस ने गुर्जर के खिलाफ धारा 171-G, 505(2) & 188 के तहत केस दर्ज किया है।

बता दें कि बीते रविवार को अशोकनगर में कांग्रेस नेता कमलनाथ की चुनावी सभा थी। इस दौरान किसान कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष दिनेश गुर्जर ने पिछले पांच वर्षों में सीएम शिवराज सिंह चौहान की संपत्ति में अचानक हुई बढ़ोतरी को लेकर सवाल किए थे। इसी दौरान उन्होंने कहा था, "कमलनाथ तो उद्योगपति घराने से आते हैं, शिवराज की तरह भूखे नंगे परिवार के नहीं हैं। शिवराज के पास पहले बमुश्किल पांच एकड़ जमीन थी, लेकिन आज वे हजारों एकड़ जमीन के मालिक हैं। यह संपत्ति कहां से आई? यह संपत्ति उन्होंने किसानों का खून पीकर जमा की है।"

बीजेपी ने दिनेश गुर्जर के इस बयान को मुद्दा बनाकर कांग्रेस को कठघरे में खड़ा करने की लगातार कोशिशें कीं। सीएम शिवराज ने तो इसे साढ़े सात करोड़ जनता का अपमान भी बता दिया था। मध्य प्रदेश बीजेपी ने इसकी क्लिपिंग के साथ सुनियोजित तरीके से सोशल मीडिया पर अभियान चलाया जिसमें बीजेपी कार्यकर्ता 'अगर गरीब होना गुनाह है तो' 'मैं भी शिवराज' हैशटैग के साथ सीएम का डीपी लगा रहे हैं।

और पढ़ें: MP By Election मुख्यमंत्री और कांग्रेस की जुबानी जंग, शिवराज के बयान पर नरेंद्र सलूजा का तंज़

खुद शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट कर कहा था कि हां मैं भूखे-नंगे परिवार से हूं इसलिए गरीब बेटे-बेटियों को मामा बन पढ़ाता हूं। गरीब हूं इसलिए हर गरीब का दर्द समझता हूं।'

कांग्रेस प्रवक्ता नरेंद्र सलूजा सीएम शिवराज के इस ट्वीट पर पलटवार करते हुए कहा था, "हां वे गरीब हैं इसलिए हेलिकॉप्टर से चलते हैं, गरीब हैं इसलिए संबल योजना में घोटाले किए, गरीब हैं इसलिए गरीबों को जानवरों वाला चावल वितरित किए, गरीब हैं इसलिए किसानों की कर्जमाफी को पाप बताते हैं।"