चोरों का पसीजा दिल, गरीब की दुकान में चोरी के बाद लौटाया सामान, बोले गलती से हो गई थी चोरी

बांदा जिले में गरीब वेल्डिंग वाले की दुकान में चोरी, दुकानदार की गरीबी का पता चलते ही इमोशनल हुए चोर, सारा सामान लौटाया, चिट्ठी में लिखा हमें नहीं पता था कि आप इतने गरीब हैं

Updated: Dec 24, 2021, 01:20 PM IST

चोरों का पसीजा दिल, गरीब की दुकान में चोरी के बाद लौटाया सामान, बोले गलती से हो गई थी चोरी
Photo Courtesy: inbase

लखनऊ। चोरों के सीने में भी दिल होता है, ये हम यूं ही नहीं कह रहे हैं, इसकी बानगी हाल ही में उत्तर प्रदेश के बांदा जिले में देखने को मिली। जहां चोरों ने एक वेल्डिंग की दुकान में चोरी की। इस दौरान उन्होंने दुकान से लोहे का हजारों का माल साफ कर दिया। लेकिन जैसे ही चोरों को दुकानदार की माली हालत के बारे में पता चला, उनका दिल पसीज गया। उन्होंने एक बोरी में सारा सामान बांधकर गांव के पास खाली जगह पर रख दिया। इतना ही नहीं चोरों ने उस पर एक चिट्ठी चिपका दी, जिसमें उन्होंने चोरी के लिए माफी मांगी थी।

अब इस चोरी के चर्चे चारों ओर हो रहे हैं। चोरों ने पीड़ित दुकानदार का एक-एक सामान लौटाया है। खबर है कि चोरों ने गलत जानकारी की वजह से वेल्डिंग दुकान में चोरी की। गलती का एहसास होने पर बाकायदा चोरी किए गए सामान को एक बोरी और डिब्बे में पैक किया और उसके ऊपर एक पेपर में माफीनामा लिखकर चिपकाया।

 यह अजीबोगरीब घटना बांदा जिले के बिसंडा थाना क्षेत्र के चंद्रायल गांव में हुई है। चोरों ने गांव के दिनेश तिवारी की दुकान पर धावा बोला, दिनेश की माली हालत काफी खराब है। उसने हाल ही में 40 हजार रुपए कर्ज लेकर वेल्डिंग का काम शुरू किया था। लेकिन चार दिन पहले 20 दिसंबर को उसकी दुकान में चोरी हो गई। फरियादी दिनेश ने इसकी शिकायत करनी चाही तो चौकी में दरोगा नहीं मिले। जिसकी वजह से केस दर्ज नहीं हुआ। लेकिन दो दिन बाद 22 दिसंबर को किसी ने उन्हें खबर दी कि गांव के बाहर बोरी में उनके नाम की चिट्ठी समेत कुछ सामान पड़ा है।

जब दिनेश ने जाकर देखा तो उसकी खुशी का ठिकाना ही नहीं रहा। उसका कहना है कि भगवान ने उसकी रोजी-रोटी बचा ली। सामान के साथ जो चिट्ठी मिली है वह इनदिनों वायरल हो रही है। उसमें लिखा था कि "यह दिनेश तिवारी का सामान है, हमें बाहरी आदमी से इसके बारे में जानकारी हुई, हम सिर्फ उसे जानते हैं जिसने लोकेशन दी कि दिनेश तिवारी कोई मामूली इंसान नहीं है, लेकिन अब हमें असलियत का पता चल गया है। हमे पता नहीं था कि आप इतने गरीब है, हमें आपकी हालत जानकर बहुत दुःख हुआ है। अत: हम आपका सामान वापस कर रहे हैं। गलत सूचना के कारण हमसे गलती हो गई है।

अब इस इमोशनल चिट्ठी से पता चलता है कि चोरी करने वाले लोग गांव के नहीं थे, वे कहीं बाहर से चोरी करने आए थे। उन्हें यहां के लोगों के बारे में कुछ भी पता नहीं था। खबर है कि चोरों की मदद करने वाला आदमी लोकल ही था जिसने जानबूझकर चोरों से गरीब आदमी के घर में चोरी करवाई। दिनेश को मिले सामान में उसकी दो  वेल्डिंग मशीन, 1 तौल कांटा, 1 बड़ी कटर मशीन, 1 ग्लेंडर और 1 ड्रिल मशीन समेत 6 चीजें वापस मिल गई हैं। अब यह गलती की चोरी सुर्खियां बटोर रही है।