TRP SCAM: गवाह ने कबूला, चैनल देखने के लिए मिलते थे पैसे, नहीं पता था टीआरपी का हेरफेर

Republic TV TRP: रेटिंग में हेराफेरी मामले में मुंबई पुलिस ने रिपब्लिक टीवी के सीएफओ को पूछताछ के लिए बुलाया

Updated: Oct 10, 2020 03:27 PM IST

TRP SCAM: गवाह ने कबूला, चैनल देखने के लिए मिलते थे पैसे, नहीं पता था टीआरपी का हेरफेर
Photo Courtesy: India Today

मुंबई। मुंबई पुलिस के द्वारा रेटिंग में हेरफेर करने के लिए रिपब्लिक टीवी और दो अन्य चैनलों के खिलाफ जांच का एलान करने के बाद एक दर्शक ने चैनलों द्वारा पैसे दिए जाने की बात को कबूला है। एनडीटीवी ने एक दर्शक के हवाले से बताया है कि उसे कुछ चैनलों को देखने के लिए हर महीने पैसे मिल रहे थे। उसके घर में व्यूवरशिप की जांच के लिए 'पीपुल मीटर" भी लगा हुआ था। यह व्यक्ति उन तीन लोगों में शामिल है जिसे पुलिस के मुताबिक चैनलों ने रिश्वत दी थी।

एनडीटीवी ने अपने एक रिपोर्ट में इस व्यक्ति के हवाले से बताया है कि, 'बार-ओ-मीटर के एग्जीक्यूटिव ने उसे बॉक्स सिनेमा देखने को कहा था। उसे प्रतिदिन 2 से चार बजे के बीच यह चैनल देखने के एवज में 500 रुपए महीना दिया जाता था। उससे यह भी कहा गया था कि उसके घर पर लगा मीटर उसके बिलों की देखभाल करेगा और उसके डीटीएच को अपने आप रिचार्ज कर देगा।'

रिपोर्ट के मुताबिक वह दर्शक पिछले 2-3 सालों से ऐसा के रहा था। हालांकि उसने इस बात से इनकार किया है कि उसे रेटिंग में हेरफेर की जानकारी थी। उसने कहा, 'मुझे कभी भी इस बात का एहसास नहीं हुआ कि इसे टेलिविजन रेटिंग पॉइंट्स से जोड़ा जा सकता है। उसने यह भी बताया है कि मुंबई छोड़कर गांव जाने के दौरान यह सिलसिला रुक गया चूंकि उसका टीवी बंद था और व कोई चैनल नहीं देख रहा था।

रिपब्लिक टीवी के CFO से आज होगी पूछताछ

टीवी रेटिंग के इस हेरफेर के मामले में मुंबई पुलिस ने आज रिपब्लिक टीवी चैनल के सीएफओ को पूछताछ के लिए बुलाया है। बताया जा रहा है कि आज पूछताछ के दौरान कई बड़े खुलासे हो सकते हैं। पुलिस फिलहाल इस मामले में चार लोगों को गिरफ्तार कर चुकी है वहीं बार्क और हंसा एजेंसी के लोगों के साथ कुछ घरवालों के बीह बयान लिया गया है जिन्हें कथित रूप से रिपब्लिक टीवी देखने के लिए पैसे दिए गए थे।

30 हजार करोड़ का हो सकता है घोटाला

इसी बीच शिवसेना सांसद संजय राउत ने दावा किया है कि टेलीविजन रेटिंग का यह घोटाला तकरीबन 30 हजार करोड़ रुपए तक का हो सकता है। राउत के इस दावे ने मीडिया के क्षेत्र में सनसनी मचा दिया है। बता दें कि गुरुवार को मुंबई पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह ने खुद प्रेस कॉन्फ्रेंस कर इस फ्रॉड का पर्दाफाश किया था। फिलहाल मामले की जांच चल रही है व जल्द ही रिपब्लिक टीवी के मालिकों और डायरेक्टर से पूछताछ की जाएगी।