अमेठी में युवक ने नाना के लिए मांगी ऑक्सीजन, पुलिस ने दर्ज किया अफ़वाह फैलाने के केस

शशांक यादव नाम का युवक राजस्थान में रहता है, उसके नाना की तबियत खराब होने के बाद युवक ने ट्विटर पर अपने नाना के लिए ऑक्सीजन सिलेंडर की गुहार लगाई थी, लेकिन युवक ने अपने ट्वीट में यह स्पष्ट नहीं किया था कि वो नाना के कोविड से संक्रमित होने के लिए ऑक्सीजन सिलेंडर नहीं मांग रहा है

Updated: Apr 28, 2021, 04:23 PM IST

अमेठी में युवक ने नाना के लिए मांगी ऑक्सीजन, पुलिस ने दर्ज किया अफ़वाह फैलाने के केस
Photo Courtesy : Livemint.com

अमेठी/नई दिल्ली। अमेठी पुलिस ने सोशल मीडिया पर भ्रामक जानकारी फैलाने के मामले में एक युवक के खिलाफ मामला दर्ज किया है। युवक ने ट्विटर पर अपने बीमार नाना के लिए ऑक्सीजन सिलेंडर मुहैया कराने के लिए मदद की गुहार लगाई थी। लेकिन चूंकि युवक ने अपने ट्वीट में नाना  के कोरोना से संक्रमित नहीं होने की जानकारी शामिल नहीं की थी, इसलिए यूपी पुलिस ने ऑक्सीजन की कमी होने को लेकर भ्रम की स्थिति पैदा करने के मामले में युवक के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। 

यह भी पढ़ें : मेरा कायदा कायदा वरना कोई कायदा नहीं वाला रवैया छोड़े यूपी सरकार, इलाहाबाद हाई कोर्ट ने लगाई योगी सरकार को फटकार

शशांक यादव नाम का युवक राजस्थान में रहता है। उसके नाना अमेठी के एक अस्पताल में बीमारी के कारण भर्ती थे। लिहाज़ा शशांक ने ट्विटर पर स्थानीय सांसद स्मृति ईरानी और बॉलीवुड अभिनेता सोनू सूद सहित कई लोगों से मदद मांगी। शशांक के गुहार लगाने के बाद स्थानीय सांसद स्मृति ईरानी ने ट्विटर पर जानकारी साझा करते हुए कहा कि शशांक उनका फोन नहीं उठा रहा है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक सांसद ने अमेठी के अधिकारियों को मदद मुहैया कराने के निर्देश दिए थे। 

यह भी पढ़ें : कोरोना नियमों की धज्जियां उड़ा कर हो रही थी शादी, मौके पर पहुंचे डीएम ने फाड़ा परमिशन लेटर, पुजारी को भी जड़ा थप्पड़

इसके बाद अमेठी पुलिस ने दावा किया कि शशांक के नाना का निधन हो गया है। और उनका निधन कोरोना के कारण नहीं बल्कि हार्ट अटैक से हुआ है। अमेठी पुलिस के दावे के अनुसार शशांक के 88 वर्षीय चचेरे नाना की मौत हार्ट अटैक से हुई थी। अमेठी पुलिस ने दावा किया कि न तो शशांक के नाना को कोविड था और न ही उन्हें ऑक्सीजन का चिकित्सीय परामर्श था।

यह भी पढ़ें : नोएडा: रेमडेसिविर के लिए महिलाओं ने पड़े सीएमओ के पैर, सीएमओ ने धमकाते हुए कहा, दोबारा आईं तो जेल भेज दूंगा

हालांकि शशांक ने अपनी गुहार में कहीं भी अपने नाना के कोरोना से संक्रमित होने का दावा नहीं किया था। लिहाज़ा हमने शशांक से इस मामले में संपर्क साधा कि उनके नाना को ऑक्सीजन के सिलेंडर की दरकार थी या नहीं? लेकिन शशांक फोन नहीं उठा पाए।