कंप्यूटर बाबा से जेल में मिलने इंदौर जाएंगे दिग्विजय सिंह, उपचुनाव में कांग्रेस का किया था प्रचार

इंदौर स्थित कंप्यूटर बाबा के आश्रम पर प्रशासन ने बड़ी कार्रवाई करते हुए उन्हें जेल भेज दिया है, पूर्व शिवराज सरकार में मिला था राज्य मंत्री का दर्जा

Updated: Nov 08, 2020, 07:47 PM IST

कंप्यूटर बाबा से जेल में मिलने इंदौर जाएंगे दिग्विजय सिंह, उपचुनाव में कांग्रेस का किया था प्रचार

इंदौर/भोपाल। पूर्व मुख्यमंत्री और राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह सोमवार सुबह कंप्यूटर बाबा से मिलने इंदौर जाएंगे। कंप्यूटर बाबा फिलहाल इंदौर के सेंट्रल जेल में बंद हैं। प्राप्त जानकरी के अनुसार पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह सोमवार सुबह तकरीबन 10 बजे इंदौर के लिए रवाना होंगे। इंदौर पहुँचने के बाद दोपहर दो बजे वे सेंट्रल जेल में कंप्यूटर बाबा से मुलाकात करेंगे। 

तय योजना के अनुसार दिग्विजय सिंह चार घंटे वहां रुकेंगे। ऐसे में इस बात का अंदेशा जताया जा रहा है कि कंप्यूटर बाबा से न मिलने देने की स्थिति में विरोध बढ़ सकता है। दिग्विजय सिंह खुद कंप्यूटर बाबा की गिरफ्तारी को बदले की कार्रवाई बता चुके हैं। कांग्रेस नेता जीतू पटवारी ने भी इसे बदले की कार्रवाई बताया और कहा कि पहले वो संत थे, अब कांग्रेस का समर्थन करते ही शैतान बन गए ?

 और पढ़ें: कंप्यूटर बाबा गिरफ्तार, प्रशासन ने की कथित अवैध निर्माण पर बड़ी कार्रवाई

दरअसल रविवार सुबह इंदौर जिला प्रशासन ने गोम्मट गिरी वाले आश्रम पर बुलडोज़र चलाकर तोड़ दिया। यह कार्रवाई औपचारिक तौर पर कलेक्टर मनीष सिंह के निर्देशन में और एडीएम अजय देव शर्मा और एसडीएम तथा पुलिस अधिकारियों की टीम की मौजूदगी में हुई। प्रशासन ने कंप्यूटर बाबा को प्रिवेंटिव डिटेंशन के तहत गिरफ्तार कर इंदौर के सेंट्रल जेल में कैद कर लिया है। 

कम्प्यूटर बाबा प्रदेश की पूर्ववर्ती कमलनाथ सरकार द्वारा गठित किए गए मां शिप्रा, मां नर्मदा और मां मंदाकिनी रिवर ट्रस्ट के अध्यक्ष हैं। कंप्यूटर बाबा शिवराज सरकार में राज्य मंत्री भी रह चुके हैं। प्रदेश में मार्च में हुए सत्ता परिवर्तन के बाद कंप्यूटर बाबा बीजेपी पर लोकतंत्र की हत्या का आरोप लगाते हुए खुलकर बीजेपी के विरोध में आ गए थे। लिहाज़ा इंदौर ज़िला प्रशासन की इस कार्रवाई को राजनीतिक नज़रिए से भी देखा जा रहा है। हाल ही में संपन्न हुए उपचुनावों में भी कम्प्यूटर बाबा ने एमपी कांग्रेस के समर्थन में जमकर प्रचार किया था। तभी से वो बीजेपी सरकार के निशाने पर हैं।