सीएम को राखी बांधने भोपाल पहुंचीं चयनित शिक्षक, सीएम से राखी गिफ्ट के तौर पर चाहती हैं नियुक्ति

भोपाल में प्रदेश भर से लगभग दो हजार चयनित शिक्षक आज भोपाल पहुंचीं, बीजेपी दफ्तर के बाहर वे थाली में राखी और उससे जुड़ा सामान लेकर आई हैं, अधर में लटकी नियुक्ति के खिलाफ वे अपना प्रतीकात्मक विरोध जता रही हैं

Updated: Aug 18, 2021, 03:17 PM IST

सीएम को राखी बांधने भोपाल पहुंचीं चयनित शिक्षक, सीएम से राखी गिफ्ट के तौर पर चाहती हैं नियुक्ति

भोपाल। मध्य प्रदेश में चयनित शिक्षक लागतार अपनी नियुक्ति की मांग को लेकर दर दर की ठोकरें खाने पर मजबूर हैं। लंबे इंतजार के लिए बाद जब चयनित शिक्षकों की हिम्मत एक बात फिर जवाब दे गई, तब प्रदेश भर से महिला शिक्षक खुद सीएम शिवराज सिंह चौहान को राखी बांधने भोपाल पहुंच गईं। हाथों में राखी से भरी थाली और पोस्टर लेकर ये महिलाएं बीजेपी कार्यालय के बाहर आ पहुंचीं।

हालांकि सीएम को राखी बांधने के लिए भोपाल आने का कार्यक्रम पहले से ही तय था। इसीलिए पुलिस ने पहले से ही बीजेपी कार्यालय के बाहर कड़ी सुरक्षा व्यवस्था कर रखी थी। बीजेपी कार्यालय के बाहर पहले ही बैरेकेडिंग लगाई जा चुकी थी। महिला शिक्षकों को पुलिस ने बीजेपी कार्यालय में दाखिल होने से रोक दिया। पुलिस द्वारा रोके जाने पर महिलाएं सड़क पर ही बैठ गईं।

प्रदेश भर से महिला शिक्षक आज अपनी नियुक्ति को मांग को लेकर भोपाल पहुंची हैं। नियुक्ति में हो रहा देरी को लेकर अपना प्रतीकात्मक विरोध जताने के लिए वे सीएम को राखी बांधने आई हैं। सीएम को राखी बांधने के बाद उन्हें गिफ्ट के तौर पर जल्द से जल्द बस नियुक्ति चाहिए। 

यह भी पढ़ें : भोपाल में चयनित शिक्षक संघ ने कान पकड़कर किया प्रदर्शन, मेरिट लिस्ट जारी होने के दो साल बाद भी पोस्टिंग नहीं होने से हैं नाराज

मध्य प्रदेश में करीब 30 हजार चयनित शिक्षक पिछले दो सालों से अपनी नियुक्ति की राह देख रहे हैं। सरकारी लेट लतीफी के विरोध में चयनित शिक्षकों ने कई मर्तबा प्रदर्शन भी किया है। हाल ही में चयनित शिक्षकों के एक समूह ने राजधानी भोपाल स्थित लोक शिक्षण संचालनालय में कान पकड़कर सांकेतिक विरोध भी किया था।

चयनित शिक्षकों की अधर में लटकी नियुक्ति को लेकर बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा ने हाल ही में यह बयान दिया था कि राज्य सरकार इन शिक्षकों की नियुक्ति जल्द करने को लेकर प्रयासरत है। वीडी शर्मा ने कहा था कि खुद सीएम शिवराज सिंह चौहान इस मामले को लेकर सक्रिय और संवेदनशील हैं।