Bharat Bandh Live: देशभर में दिखा बंद का असर, राकेश टिकैत बोले- भारत बंद सफल रहा, किसानों का पूरा साथ मिला

संयुक्त किसान मोर्चा ने गाइडलाइंस जारी करते हुए भारत बंद के दौरान शांति बनाए रखने का आह्वान किया था और देश के सभी नागरिकों से भारत बंद में शामिल होने की अपील की थी

Updated: Sep 27, 2021 07:15 PM IST

विवादास्पद कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का भारत बंद का दिखा व्यापक असर, किसानों ने गाजीपुर बॉर्डर पर दिल्ली मेरठ एक्सप्रेसवे को बंद कर दिया तो पालघर में महिला किसानों ने किया प्रदर्शन।

पंजाब, छत्तीसगढ़, झारखंड, केरल, तमिलनाडु और आंध्र प्रदेश की राज्य सरकारों ने भी किसानों के भारत बंद का समर्थन किया था। इसके अलावा दर्जनों राजनीतिक दलों ने किसानों का समर्थन किया  था। बंद का असर सोमवार सुबह 6 बजे से लेकर शाम 4 बजे तक देखने को मिला।

 

भारत बंद रहा सफल: राकेश टिकैत

देश के 40 किसान संगठनों के आह्वान पर आज देशभर में भारत बंद का व्यापक असर देखने को मिला। भारत बंद को लेकर किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा कि हमारा यह पूर्णतः सफल रहा। राकेश टिकैत के मुताबिक बंद को देश के सभी राज्यों के किसानों ने समर्थन दिया और विरोध प्रदर्शनों में हिस्सा लिया। उन्होंने कहा कि किसानों ने सब कुछ सील इसलिए नहीं किया था क्योंकि इससे लोगों को परेशानी होती। उन्होंने एक बार फिर दोहराया कि किसान संगठन केंद्र सरकार से बातचीत के लिए तैयार हैं, लेकिन सरकार किसी तरह की बातचीत नहीं कर रही है।

सिंधु बॉर्डर पर किसान की मौत

सिंधु बॉर्डर पर किसान की मौत

भारत बंद के दौरान सिंधु बॉर्डर पर एक किसान की मौत हो गई। पुलिस ने हार्ट अटैक को मौत का कारण बताया है। हालांकि, पोस्टमार्टम के बाद ही असली कारण पता चल सकेगा। 

हम अन्नदाताओं के साथ: दिग्विजय सिंह

हम अन्नदाताओं के साथ: दिग्विजय सिंह

भोपाल में किसानों के समर्थन में सड़कों पर उतरे पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह ने कहा कि हम अन्नदाताओं के साथ हमेशा खड़े हैं। कांग्रेस नेता ने केंद्र सरकार पर किसानों की आवाज को दबाने का आरोप लगाते हुए कहा कि उद्योगपतियों को फायदा पहुंचाने के लिए सरकार किसान भाइयों के खिलाफ षड्यंत्र कर रही है। बता दें कि भारत बंद का आह्वान देशभर के 40 किसान संगठनों की ओर से किया गया था। देश की दर्जनों राजनीतिक पार्टियों, सामाजिक संगठनों ने भी इसका समर्थन किया है।

जयपुर में बाजार पूरी तरह बंद

जयपुर में बाजार पूरी तरह बंद

राजस्थान की राजधानी जयपुर में कृषि कानूनों के खिलाफ भारत बंद के दौरान बाजार पूरी तरह बंद रहे। बताया जा रहा है कि यहां दुकानदारों ने स्वयं ही किसानों के साथ एकजुटता दिखाने के लिए बाजार बंद रखने का निर्णय लिया था। शाम 4 बजे के बाद दुकानें खोलने की तैयारी है।

एंबुलेंस को नहीं रोका जा रहा, वीडियो वायरल

संयुक्त किसान मोर्चा ने पहले ही कहा था कि एम्बुलेंस, स्कूली बच्चों व अन्य इमरजेंसी वाहनों को नहीं रोका जाएगा। वहीं सत्ता पक्ष के लोग आरोप लगा रहे हैं कि जाम में एम्बुलेंस भी रोके जा रहे हैं। संयुक्त किसान मोर्चा ने एक वीडियो साझा कर इसका जवाब दिया है। वीडियो में देखा जा सकता है कि एम्बुलेंस के आते ही किसानों ने रास्ता छोड़ दिया। इस दौरान एम्बुलेंस को सेकेण्ड भर भी नहीं रुकना पड़ा। सोशल मीडिया पर यह वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है। 

सड़कों पर उतरी महिलाएं

सड़कों पर उतरी महिलाएं

कृषि कानूनों के खिलाफ महाराष्ट्र के पालघर में सैंकड़ों महिलाएं सड़कों पर उतरी। यहां महिला किसानों ने कृषि कानूनों और केंद्र की मोदी सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। प्रदर्शनकारी महिलाओं ने कहा कि काले कानूनों की वापसी के पहले वे चुप नहीं बैठेंगे।

चेन्नई में टूटे बैरिकेड्स

चेन्नई में टूटे बैरिकेड्स

तमिलनाडु की राजधानी चेन्नई में कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का आक्रोश देखने को मिला है। राजधानी में किसानों ने कई पुलिस बैरिकेड्स को तोड़ दिया। पुलिस ने स्थिति से निपटने के लिए उन्हें हिरासत में ले लिया।

किसानों के साथ धरने पर बैठे दिग्विजय सिंह

किसानों के साथ धरने पर बैठे दिग्विजय सिंह

मध्य प्रदेश के सभी जिलों में कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का प्रदर्शन चल रहा है। राजधानी भोपाल में किसानों का समर्थन देने के लिए कांग्रेस के दिग्गज नेता दिग्विजय सिंह सड़कों पर उतरे। पूर्व सीएम ने भोपाल के करौंद इलाके में किसानों के साथ धरना दिया। धरनास्थल पर एसपी-डीआईजी मौजूद हैं, वहीं ड्रोन से निगरानी की जा रही है।

सोनीपत-अंबाला रेलवे रूट बंद

सोनीपत-अंबाला रेलवे रूट बंद

किसानों का भारत बंद के कारण सोनीपत से अंबाला रेलवे रुट को भी चार बजे तक के लिए बंद कर दिया गया है। सोनीपत रेलवे स्टेशन पर ऑल इंडिया किसान खेत मजदूर संगठन के कार्यकर्ता पटरियों पर बैठकर केंद्र सरकार के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं।

स्थानीय लोगों ने लगाया किसानों के लिए लंगर

स्थानीय लोगों ने लगाया किसानों के लिए लंगर

पंजाब के खरड़ में बंद का आह्वान को मिला स्थानीय लोगों का समर्थन। खरड़ में सभी दुकानें बंद हैं। यहां बस स्टैंड पर प्रदर्शनकारी किसान जुटे हुए हैं। खास बात यह है कि स्थानीय लोगों ने किसानों के लिए यहां लंगर शुरू किया है। स्थानीय लोगों ने सुबह किसानों के लिए चाय और नाश्ता बनाया और अब दोपहर के भोजन की तैयारी है।

पंजाब, हरियाणा में पटरियों पर बैठे किसान

पंजाब, हरियाणा में पटरियों पर बैठे किसान

पंजाब और हरियाणा में किसान सुबह से रेलवे पटरियों पर बैठे हुए हैं। हरियाणा के बहादुरगढ़ रेलवे स्टेशन पर किसानों ने ग्रीन कारपेट बिछाई है। दोनों राज्यों के दर्जनों रेलवे स्टेशन से बंद की तस्वीरें सामने आ रही है।

किसानों का सत्याग्रह आज भी अखंड है: राहुल गांधी

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने किसानों के आह्वान पर भारत बंद का समर्थन किया है। राहुल गांधी ने ट्वीट किया, 'किसानों का अहिंसक सत्याग्रह आज भी अखंड है, लेकिन शोषण-कार सरकार को ये नहीं पसंद है। इसलिए आज भारत बंद है।'

जो किसान का नहीं, वो हिंदुस्तान का नहीं: RJD

बिहार में मुख्य विपक्षी दल आरजेडी ने कहा है कि जो किसानों का नहीं है, वो इस देश का नहीं है। आरजेडी ने कहा है कि बंद का मतलब सब बंद। आरजेडी ने किसानों के आह्वान को ईश्वर का फरमान बताया है। बिहार के सभी जिलों में आरजेडी कार्यकर्ता सड़कों पर हैं। 

सभी लोग शांति बनाए रखें: संयुक्त मोर्चा

सभी लोग शांति बनाए रखें: संयुक्त मोर्चा

संयुक्त किसान मोर्चा ने गाइडलाइंस जारी करते हुए भारत बंद के दौरान शांति बनाए रखने का आह्वान किया है। किसान मोर्चा ने देश के सभी नागरिकों से भारत बंद में शामिल होने की अपील की है। बंद आज सुबह 6 बजे से लेकर शाम 4 बजे तक के लिए है।

दर्जनों राजनीतिक दलों ने किया बंद का समर्थन

दर्जनों राजनीतिक दलों ने किया बंद का समर्थन

किसानों के आह्वान पर दर्जनों राजनीतिक दलों ने भी भारत बंद का समर्थन किया है। मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस की सभी राज्य इकाइयां किसानों के साथ प्रदर्शन में शामिल भी हो रही हैं। इसके अलावा समाजवादी पार्टी, बसपा, एनसीपी, आरजेडी, टीडीपी, डीएमके, आम आदमी पार्टी और सभी कम्युनिस्ट दलों ने बंद का समर्थन किया है।

नहीं रोक रहे इमरजेंसी सेवा: टिकैत

नहीं रोक रहे इमरजेंसी सेवा: टिकैत

भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने कहा है कि भारत बंद के दौरान हम इमरजेंसी सेवाओं को नहीं रोक रहे हैं। हम यह सुनिश्चित कर रहे हैं कि अतिआवश्यक कार्य निर्बाध जारी रहे। बंद का आह्वान हमने इसलिए किया है ताकि केंद्र की मोदी सरकार को किसानों का संदेश मिले।

 

दिल्ली मेरठ एक्सप्रेसवे पर बैठे सैंकड़ों किसान

प्रदर्शनकारी किसानों ने दिल्ली मेरठ एक्सप्रेसवे बंद कर दिया है। गाजीपुर बॉर्डर पर एक्सप्रेसवे पर सैंकड़ों किसान जुटे हुए हैं। NH24 और NH9 पर आवागमन बाधित हो गया है। गाजीपुर इलाके में ट्रैफिक मूवमेंट पूरी तरह से रुक गई है।