मौत के तीन हफ्ते बाद भारत आएगा यूक्रेन में मारे गए छात्र नवीन का शव, परिजनों ने किया देहदान का फैसला

भारतीय छात्र नवीन शेखरप्पा की मौत उस समय हुई थी जब वह अपने बंकर से बाहर निकलकर खाना, पानी और पैसे लेने के लिए गए थे

Updated: Mar 19, 2022, 01:44 PM IST

मौत के तीन हफ्ते बाद भारत आएगा यूक्रेन में मारे गए छात्र नवीन का शव, परिजनों ने किया देहदान का फैसला

बेंगलुरु। रूस-यूक्रेन युद्ध के दौरान मारे गए भारतीय छात्र नवीन शेखरप्पा का शव सोमवार को भारत पहुंचेगा। कर्नाटक के मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई ने इसकी जानकारी दी है। यूक्रेन के प्रमुख शहरों में से एक खारकीव में जारी संघर्ष में नवीन की 1 मार्च को मौत हो गई थी। मौत के करीब तीन हफ्ते बाद अब उसका शव भारत लाया जा रहा है।

मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई ने कहा कि यूक्रेन में गोलाबारी में मारे गए खार्किव मेडिकल यूनिवर्सिटी के अंतिम वर्ष के मेडिकल छात्र नवीन शेखरप्पा का शव 21 मार्च को बेंगलुरु एयरपोर्ट पहुंचेगा। 21 साल के नवीन का घर कर्नाटक में हावेरी जिले में है। मौत के बाद से नवीन की बॉडी खार्कीव मेडिकल यूनिवर्सिटी की मॉर्चुरी में ही रखी हुई थी।

यह भी पढ़ें: यूक्रेन के राष्ट्रपति को नोबेल शांति पुरस्कार देने की मांग, यूरोपीय नेताओं ने कमेटी को लिखा पत्र

नवीन के पिता ने देहदान का फ़ैसला लिया है। उन्होंने कहा, 'मेरे बेटे का शव 21 तारीख को सुबह 3 बजे बेंगलुरु पहुंचेगा। वहां से शरीर हमारे गांव सुबह 9 बजे आएगा। इसके बाद हम वीर शैव परंपरा के अनुसार पूजा करेंगे और बाद में शव को लोगों के दर्शन के लिए रखा जाएगा। इसके बाद हम मेडिकल स्टडीज के लिए एसएस हॉस्पिटल देवनगरी को शरीर दान कर देंगे।'

बता दें कि नवीन शेखरप्पा यूक्रेन के खारकीव शहर में रहकर मेडिकल की पढ़ाई कर रहे थे। वह वहां पर चौथे और अंतिम वर्ष के छात्र थे। नवीन की मौत उस समय हुई, जब वह अपने बंकर से बाहर निकलकर खाना, पानी और पैसे लेने के लिए गए थे। वह जिस दुकान से खाना और पानी लेने गए थे, वह बंकर से महज 50 मीटर की दूरी पर था। नवीन की मौत के बाद से ही उनके शव को भारत लाने के लिए अथक प्रयास किए जा रहे थे। रूस-यूक्रेन के बीच जारी जंग में अभी तक हजारों की संख्या में निर्दोष लोगों की मौत हो चुकी है।