डेंगू मरीज को प्लेटलेट्स की जगह चढ़ा दिया मौसमी का जूस, मौत के बाद अस्पताल सील

प्रयागराज में डेंगू के मरीज को प्लेटलेट्स की जगह मौसमी का जूस चढ़ाने के मामले में स्वास्थ्य महकमे ने अस्पताल का लाइसेंस निरस्त कर अस्पताल को सील करने की कार्रवाई की है

Updated: Oct 21, 2022, 09:11 AM IST

डेंगू मरीज को प्लेटलेट्स की जगह चढ़ा दिया मौसमी का जूस, मौत के बाद अस्पताल सील

प्रयागराज। उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में डेंगू पेशेंट को प्लेटलेट्स की जगह मौसमी का जूस चढ़ाने का सनसनीखेज मामला सामने आया है। बताया जा रहा है कि इस वजह से मरीज की मौत हो गई। मामले में स्वास्थ्य महकमे ने बड़ा एक्शन लिया है। स्वास्थ्य महकमे ने प्रारंभिक जांच में अस्पताल की लापरवाही पाए जाने पर अस्पताल का लाइसेंस निरस्त कर अस्पताल को सील करने की कार्रवाई की है।

सीएमओ डॉक्टर नानक सरन के निर्देश पर अस्पताल सील करने की कार्रवाई डॉक्टर एके तिवारी की टीम ने की है। इस मामले में सूबे के स्वास्थ्य मंत्री और डिप्टी सीएम ब्रजेश पाठक ने भी ट्वीट किया है। आईजी रेंज प्रयागराज डॉ राकेश कुमार सिंह ने भी कार्रवाई करने की बात कही है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक डेंगू पीड़ित प्रदीप पांडेय नाम का एक मरीज झलवा स्थित ग्लोबल हॉस्पिटल में 17 अक्टूबर भर्ती हुआ था। डॉक्टरों ने उसे आठ यूनिट प्लेटलेट्स चढ़ाने की सलाह दी थी। तीन यूनिट प्लेटलेट्स मरीज को चढ़ा भी दिया गया था।बाद में अस्पताल द्वारा और पांच यूनिट प्लेटलेट्स मंगाए जाने पर मरीज के परिजन किसी एजेंट के माध्यम से प्लेटलेट्स लेकर आए।

यह भी पढ़ें: सांसद आदर्श ग्राम के शासकीय स्कूल में शराब पार्टी, क्लास के समय बियर पीते पकड़ाया नशेड़ी शिक्षक

प्लेटलेट्स चढ़ने लगा तो उनकी हालत बिगड़ने लगी और अस्पताल प्रबंधन ने हाथ खड़े कर दिए। अस्पताल की तरफ से प्रदीप को कहीं और ले जाने को कहा जाने लगा। प्रदीप के घर वाले 18 अक्टूबर को उन्हें दूसरे निजी अस्पताल में लेकर पहुंचे लेकिन अब तक प्रदीप की हालत बहुत बिगड़ चुकी थी। प्रदीप की किडनी डैमेज हो चुकी थी। कई नसें फट चुकीं थीं। इस दौरान 25000रुपये में खरीदे गए 5 यूनिट प्लेटलेट्स में से बची एक यूनिट प्लेटलेट्स प्रदीप के घर वालों ने उस निजी अस्पताल के डॉक्टरों को दिखाया तो उन्होंने कहा इसमें प्लेटलेट्स नहीं है, बल्कि प्लेटलेट्स की जगह मौसमी का जूस है और केमिकल भी मिला हुआ है।

परिजनों की शिकायत पर सीएमओ ने तेज बहादुर सप्रू बेली अस्पताल के ब्लड बैंक के डॉक्टरों की 3 सदस्य टीम बनाई और पूरे मामले की जांच कराई।सीएमओ डॉक्टर नानक सरन के मुताबिक प्रारंभिक जांच में अस्पताल की लापरवाही सामने आई है, जिसके बाद झलवा स्थित ग्लोबल अस्पताल का लाइसेंस निरस्त कर उसे सील करने की कार्रवाई कराई गई है। दरअसल, प्रयागराज में डेंगू फैलने के बाद इन दिनों यह धंधा जोरों पर चल रहा है। लोग प्लेटलेट्स की कालाबाजारी तो कर ही रहे हैं। साथ ही प्लेटलेट्स की जगह केमिकल मिला मौसमी का जूस भी डेंगू पेशेंट को बेच रहे हैं।